चंद्र/हिंदू नव वर्ष

लिंग भैरवी के साथ उत्सव मनाएं
नये साल की शुरुआत देवी की कृपा पाकर करें। देवी को भेंट अर्पित करके और अभिषेकम का फ्री सीधा प्रसारण देखकर आप देवी की कृपा पा सकते हैं।
13, 14 और 15 अप्रैल को भेंट अर्पित करें
14 अप्रैल, रात 7 बजे सीधा प्रसारण देखें
 

चंद्र/हिंदू नव वर्ष

लिंग भैरवी के साथ उत्सव मनाएं
नये साल की शुरुआत देवी की कृपा पाकर करें। देवी को भेंट अर्पित करके और अभिषेकम का फ्री सीधा प्रसारण देखकर आप देवी की कृपा पा सकते हैं।
13, 14 और 15 अप्रैल को भेंट अर्पित करें
14 अप्रैल, रात 7 बजे सीधा प्रसारण देखें
seperator
 

“चंद्र कैलेंडर में नया साल जीवन के नये चक्र का प्रतीक है। खुद को अर्पित कर देने से जीवन को नई ऊर्जा और शक्ति से भरना आसान हो जाता है। देवी और उसकी कृपा के साथ जुड़ने के लिए वसंत के बाद आने वाले विषुव (दिन और रात के बराबर होने का दिन) के बाद का समय सबसे अच्छा होता है।”
– सद्गुरु

लिंग भैरवी से विशेष नये साल का अभिषेकम देखें (14 अप्रैल, 7-8 PM IST)



चंद्र/ हिंदू नव वर्ष बहुत महत्वपूर्ण है, न केवल सांस्कृतिक रूप से, बल्कि वैज्ञानिक रूप से भी, क्योंकि यह हमारे ग्रह, सूर्य और चंद्रमा के बीच संबंध और मानव प्रणाली पर इसके प्रभाव को ध्यान में रखता है। इसीलिए, भारत में नया साल वसंत के मौसम की शुरुआत के दिन मनाया जाता है, न कि पहली जनवरी के दिन।

लिंग भैरवी में पारंपरिक नए साल के उत्सव के एक भाग के रूप में, देश के विभिन्न हिस्सों से भक्त देवी की कृपा के लिए अपील करने के लिए विभिन्न अनुष्ठान कर सकते हैं। यह उत्सव के सभी तीन दिनों (13, 14, और 15 अप्रैल) को खुला है।

नये साल के अर्पण

(सिर्फ़ भारत में मौजूद लोग ही भेंट अर्पित कर सकते हैं।)
seperator
abishekam

अभिषेकम

11 भेंटें अर्पित करके देवी की कृपा पाने का तरीका
Suphala Arpanam

सुफल अर्पणम

फल एक सम्पूर्ण जीवन को दर्शाते हैं। देवी की कृपा पाने के लिए फल अर्पित किए जा सकते हैं।
deepam-arpanam

दीपम अर्पणम

देवी की कृपा से नये साल को रोशन करने के लिए घेई के दीयों का अर्पण करें।
इस नये साल पर अलग-अलग व्यक्ति या पूरा परिवार, दूर रहते हुए देवी को भेंट अर्पित कर सकते हैं। इन भेंटों के साथ ही आपके और आपके परिवार के नाम और जन्म तारीखें, देवी के चरणों में रखे जाएंगे, जिससे आपको देवी का आशीर्वाद प्राप्त होगा। सुफला अर्पणम और दीपम अर्पणम के प्रसाद में एक समर्पणम् शामिल होगा। समर्पणम् व्यक्तियों या परिवारों की खुशहाली के लिए, एक आरती के साथ 9 प्रसादों का एक सेट है।

देवी की कृपा प्राप्त करें

seperator
देवी की उपस्थिति का लाभ उठाने के लिए, लिंग भैरवी से विशेष नये साल का अभिषेकम देखें (14 अप्रैल, 7-8 PM IST) । इस अभिषेकम से पहले ईशा संस्कृति द्वारा संगीत और नृत्य की शानदार प्रस्तुति दी जाएगी।
भेंट अर्पित करने के लिए और/या सीधा प्रसारण देखने के लिए रजिस्टर करें।