ईशा संघमित्र

रचें एक सचेतन विश्व

‘सुंदर चीजें इसलिए घटित नहीं होतीं क्योंकि किसी ने उनकी कामना की है। सुंदर चीजें इसलिए होती हैं क्योंकि कोई इन्हें साकार करता है। क्या आप वह ‘कोई’ हैं...’ - सद्गुरु

 

ईशा संघमित्र

रचें एक सचेतन विश्व

‘सुंदर चीजें इसलिए घटित नहीं होतीं क्योंकि किसी ने उनकी कामना की है। सुंदर चीजें इसलिए होती हैं क्योंकि कोई इन्हें साकार करता है। क्या आप वह ‘कोई’ हैं...’ - सद्गुरु

 

ईशा संघमित्र क्या है?

seperator
 
 

 

योग संस्कृति में, संघ का मतलब एक आध्यात्मिक समुदाय से होता है और मित्र का अर्थ है दोस्त। संघमित्र वह व्यक्ति है जो आध्यात्मिक समुदाय का मित्र है।

ईशा संघमित्र, एक अधिक सचेतन मानवता के निर्माण के सद्गुरु के सपने का अभिन्न अंग बनने का एक अनोखा अवसर और उसके प्रति प्रतिबद्धता है। वे धरती पर हर मनुष्य को आध्यात्मिकता की कम से कम एक बूंद प्रदान करना चाहते हैं।

संघमित्र होने के लिए आपको, अपनी इच्छा से चुने हुए समय के एक दौर के लिए, हर महीने दान करना होता है।

प्रत्येक दान, वह चाहे जितना छोटा या बड़ा हो, एक अंतर पैदा कर सकता है। जिस भी तरीके से आप दे सकें, कृपया हमें सहयोग दें।

अभी दान करें

 
अनुभव
 

अक्सर पूछ जाने वाले प्रश्न

seperator

आप 511, 1011, या 10111 रुपए का, या कोई भी मनचाही राशि का पुनरावर्ती मासिक दान कर सकते हैं।

आप नेट बैंकिंग, डेबिट या क्रेडिट कार्ड के माध्यम से ऑनलाइन दान कर सकते हैं।

आपके दान से, एक अधिक जीवंत, समावेशी, और जागरूक दुनिया बनाने और मानव कल्याण के ईशा फाउण्डेशन के प्रयासों को हर स्तर पर सहारा मिलेगा, जो सद्गुरु की इस बात को ध्यान में रखते हुए है की धरती पर हर मनुष्य को आध्यात्मिकता की कम से कम एक बूंद भेंट की जाए।

ईशा संघमित्र आपके द्वारा चुने गए समय के दौर के लिए एक प्रतिबद्धता है। अगर आप किसी ख़ास महीने के लिए दान करने में असमर्थ हैं, तो कृपया कम से कम 10 दिन पहले isha.sanghamitra@ishafoundation.org पर लिखें।

हां, ईशा फाउण्डेशन को दिए गए दान पर भारतीय करदाताओं को सेक्शन 80G के अंतर्गत छूट मिलती है।

हां आप संघमित्र के लिए अलग से रजिस्टर कर सकते हैं।

ईशा संघमित्र एक अधिक जागरूक दुनिया बनाने में ईशा का सहयोग करने का एक सुंदर अवसर है। इसमें ईशा फाउण्डेशन की गतिविधियों में सहयोग करने के लिए पुनरावर्ती मासिक दान करना होता है, जहां दान की राशि और समय का दौर दानकर्ता के चयन पर निर्भर करता है। वह दौर पूरा होने पर व्यक्ति उस सहयोग को पुनः चालू कर सकता है।

ईशांग 7% सद्गुरु के साथ जीवनभर की एक पवित्र साझेदारी है। ईशांग बनने का मतलब है कि अपनी आय का 7% या अधिक ईशा फाउण्डेशन को नियमित रूप से देने को इच्छुक हैं। सद्गुरु द्वारा ईशांग 7% भागीदारों को एक शक्तिशाली प्रक्रिया में दीक्षित किया जाता है जिसे हर दिन अभ्यास करना होता है।

आप नीचे दी गई सरल, लेकिन शक्तिशाली साधना रोज कर सकते हैं:

  • एक घी या तिल के तेल का दीया जलाएं।
  • अर्ध सिद्धासन या पालथी लगाकर बैठें। अपने हाथ अपनी जांघों पर रखें, हथेली ऊपर की ओर, और आंखें बंद रखें।
  • ‘योग योग योगेश्वराय’ मंत्र का 12 बार जाप करें।
  • अपनी आंखें बंद किए हुए और चेहरे को थोड़ा ऊपर उठाकर 5 मिनट और बैठे रहें।

आप +91 844 844 7707 / isha.sanghamitra@ishafoundation.org पर हमारी टीम से संपर्क कर सकते हैं।