हम वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (COVID-19) के साथ असामान्य रूप से चुनौतीपूर्ण समय से गुजर रहे हैं। हम सभी को अपने दैनिक जीवन में नाटकीय परिवर्तनों का सामना करना पड़ रहा है। इस स्थिति की अनिश्चितता के कारण लोग डर या चिंता का अनुभव कर रहे हैं। ऐसे समय में, यह और भी ज़्यादा ज़रूरी है कि हम अपने उत्साह और आंतरिक संतुलन को बढ़ायें, ताकि हम अपने आसपास के सभी लोगों के लियें प्रेरणा बनें और उन्हें प्रभावित कर सकें।

इसके लिये सद्गुरु ने एक सरल लेकिन शक्तिशाली निर्देशित साधना की पेशकश की है, जिससे हम प्रतिदिन लाभ उठा सकते हैं।

सद्गुरु द्वारा दिए गए दैनिक अभ्यास

योग योग योगेश्वराय जप(12 चक्र) के बाद ईशा क्रिया ध्यान

अभ्यास कैसे सीखें?

पहला चरण:क्रिया के महत्व के बारे में जानें

 

दूसरा चरण:योग योग योगेश्वराय जप को सीखें

 

Subscribe

Get weekly updates on the latest blogs via newsletters right in your mailbox.

तीसरा चरण:ईशा क्रिया सीखें

 

चौथा चरण: "योग योग योगेश्वराय" का जप और उसके बाद ईशा क्रिया का पूर्ण निर्देशित दैनिक अभ्यास

 

भीतर की और मुड़ें: साधना के लिए रजिस्टर करें 

हाल ही एक दर्शन में, सद्गुरु ने कहा: “आप जहां भी हैं, यदि आप अपना नाम देकर पंजीकरण करते हैं तो हम आपके लिए एक निर्देशित साधना करेंगे। आप जिस भी समय, क्षेत्र या टाइम जोन में हैं, उसके अनुसार सही समय पर हम आपके लिए एक निर्देशित साधना प्रक्रिया करेंगे, ताकि आप जान सकें कि आप अपने दिन का संचालन कैसे करें।”

किसी भी चुनौती का सामना होने पर, हमारी बुद्धि, स्वास्थ्य, और संतुलन अत्यधिक महत्वपूर्ण हो जाते हैं। ऐसे समय में भीतर की ओर मुड़ना और भी आवश्यक हो जाता है। यदि आप इस क्वेरेंटाईन समय का उपयोग और अधिक उत्साह और भीतरी स्थिरता बनाने के लिए करना चाहते हैं, तो आप एक संरचित 40-दिवसीय साधना सहायता के लिए पंजीकरण कर सकते हैं।

जो लोग इसके लिए पंजीकरण करते हैं, हम उन लोगों को अगले 40 दिनों के दौरान स्वास्थ्य और भलाई के लिए वेबिनार, और लेखों के माध्यम से अतिरिक्त योग साधन और अनुकूल टिप्स प्रदान करेंगे।

यदि आपने इनर इंजीनियरिंग कार्यक्रम पूरा किया है और शाम्भवी महामुद्रा में दीक्षित हैं, तो हम सद्गुरु द्वारा तैयार एक दैनिक अभ्यास कार्यक्रम भी साझा करेंगे और आपको आपकी क्रियाओं के लिए और सहायता प्रदान करेंगे।

40-दिवसीय साधना सहायता के लिए यहां पंजीकरण करें।