आध्यात्मिक विकास का समय

Sadhanapada – Rising Through Sadhana

गर्मियों की संक्रांति और सर्दियों की संक्रांति के बीच की अवधि साधकों के लिए बहुत महत्वपूर्ण होती है। इस समय ग्रहण करने की क्षमता बहुत ज्यादा होती है, और इसे साधना पद के नाम से जाना जाता है। योग परंपरा में और विशेष रूप से उत्तरी गोलार्ध में, इस अवधि को साधना के लिए बहुत मददगार माना जाता है - यह एक ऐसा समय है जब आध्यात्मिक रूपांतरण एक प्राकृतिक प्रक्रिया बन जाता है। इस अवधि के दौरान साधना करने से सबसे अच्छे परिणाम मिलते हैं।

 

आसानी से रूपांतरण लाने का समय

Sadhanapada – Rising Through Sadhana

 

संतुलन और स्पष्टता - वे दो पहलू हैं जिनकी मदद से हम दुनिया में अपनी पूरी क्षमता से काम कर सकते हैं। एक संतुलित जीवन सिर्फ बाहरी गतिविधियों पर नहीं, भीतरी हलचल पर भी निर्भर करता है। साधना पद के दौरान मन और भावनाओं में स्थिरता लाकर, एक स्थिर आधार स्थापित करने की संभावना सभी के लिए उपलब्ध होती है। आप एक ऐसी नींव तैयार कर सकते हैं, जिसके आधार पर जीवन में हर तरह की परिस्थिति से गुजरा जा सकता है।

Subscribe

Get weekly updates on the latest blogs via newsletters right in your mailbox.
No Spam. Cancel Anytime.

 

Sadhanapada – Rising Through Sadhana

 

तीव्र साधना का समय

2018 में, सद्गुरु ने पहली बार साधकों को ईशा योग केंद्र के पवित्र वातावरण में रहकर साधना पद का समय बिताने की संभावना भेंट की थी। 21 देशों के 200 से अधिक प्रतिभागियों को भीतरी परिवर्तन की दिशा में एक केंद्रित प्रयास करने का अवसर मिला।

कार्यक्रम के एक हिस्से के रूप में, प्रतिभागियों को तीव्र साधना से गुजरना पड़ता है, जिसमें दैनिक योग अभ्यास और वालंटियरिंग (सेवा) शामिल हैं। हम इस कार्यक्रम की शुरुआत से लेकर इसके अंत - यानी महाशिवरात्रि - तक की साधकों की यात्रा को करीब से समझेंगे, और उनके अनुभवों और रूपांतरण को गहराई से जानेंगे।