सदगुरु: लोग प्राणायम शब्द का अंग्रेज़ी में 'साँस लेने की तकनीक' या 'साँस लेने का व्यायाम' के अर्थ में अनुवाद करते हैं। पर, ये वैसा नहीं है। प्राण का मतलब है जीवन ऊर्जा जो जीने के लिये सबसे ज्यादा जरूरी, सबसे ज्यादा अहम शक्ति है। यम का मतलब है काबू पाना। तो प्राणायम एक सूक्ष्म प्रक्रिया है जिसके द्वारा हम अपनी अंदरूनी ऊर्जाओं पर अधिकार पा सकते हैं, उन्हें नियंत्रित कर सकते हैं। ये प्रक्रियायें बहुत गहराई से सिखायी जाती हैं क्योंकि शरीर और मन को स्थिर करने के लिये अंदरूनी ऊर्जाओं में बदलाव लाना बहुत अहम है। 

क्योंकि हर व्यक्ति की कार्मिक याददाश्त प्राण पर छपी होती है, इसलिये ये हरेक व्यक्ति के अंदर अलग अलग तरीके से काम करता है।

आप जीवन में जो भी करें, आपका मन, आपका शरीर और आपका पूरा तंत्र कैसे काम करेगा, यह आखिरकार आपके प्राण या जीवन ऊर्जा से तय होता है। प्राण एक बुद्धिमान ऊर्जा है। चुंकि प्राण पर हर व्यक्ति की कार्मिक याद्दाश्त छपी होती है, इसलिए यह हर इंसान में अलग तरह से काम करता है। इसके उल्टा, बिजली में कोई बुद्धि नहीं होती, इसलिए यह बल्ब जला सकती है, कैमरा चला सकती है और लाखों काम कर सकती है, यह इसकी समझदारी की वजह से नहीं होता, बल्कि यह उस यंत्र की वजह से होता है, जिसे यह चला रही है। भविष्य में हो सकता है कि स्मार्ट बिजली भी आ जाए। अगर आप ऊर्जा को किसी खास याद्दाश्त से जोड़ सकें, तो आप भी इससे कुछ ऐसा ही काम ले सकते हैं।  

प्राण के अलग अलग रूप : पंच वायु 

शरीर में प्राण के पाँच रूप हैं जिन्हें पंच वायु कहते हैं। ये हैं - प्राण वायु, समान वायु, उदान वायु, अपान वायु, व्यान वायु। ये मानव तंत्र के विभिन्न पहलू हैं। शक्ति चलन क्रिया जैसे यौगिक अभ्यासों की मदद से आप पंच वायु की डोर अपने हाथों में ले सकते हैं। अगर आपने इन पर महारत हासिल कर ली तो आप ज्यादातर रोगों से मुक्त हो जायेंगे - खासकर मानसिक रोगों से अपना बचाव कर सकेंगे। आज संसार को इसकी सबसे ज्यादा ज़रूरत है। 

अगर हमने इस बात पर अभी ध्यान न दिया तो आने वाले पचास सालों के अंदर हमारे पास बहुत ज्यादा लोग ऐसे होंगे जो मानसिक असंतुलन के शिकार होंगे। यह सब हमारी आधुनिक जीवन शैली की देन है। हम बहुत ही गलत तरीके से जीवन के कई आयामों को संभाल रहे हैं। हमें इसकी भारी कीमत चुकानी होगी। अगर आप अपने प्राणों की जिम्मेदारी लेते हैं तो बाहरी हालात चाहे जो भी हों, आप मानसिक तौर पर संतुलित रहेंगे। अभी बहुत सारे लोग मानसिक स्तर पर असंतुलन के शिकार हैं, हालांकि अभी उनका अभी मेडिकल परीक्षण नहीं हुआ है। 

प्राण, संतुलन व स्वास्थ्य 

मान लीजिए आपका हाथ बेकाबू हो कर आपको नोचने लगे या चोट पहुँचाए - तो यह बिमारी है। इस समय लोगों का मन उनके साथ यही कर रहा है। हर रोज, लोगों का मन उन्हें निराश होने, तनाव में जाने या रोने के लिए विवश कर देता है। यह उनके लिए दुख पैदा कर रहा है। यह भी एक रोग है पर समाज ने इसे रोग नहीं मानता। मनुष्य के रोजमर्रा से जुडे़ हर दुख का मूल मन में ही है। रोग हमारे भीतर आ चुका है, और दिन-ब- दिन बढ़ रहा है क्योंकि हमारे आसपास सामाजिक ढांचे, तकनीक और कई दूसरी चीजें ऐसी ही हैं।

शक्ति चालन क्रिया जैसे योग अभ्यासों की मदद से आप अपने प्राणों की कमान अपने हाथों में ले सकते हैं।

Subscribe

Get weekly updates on the latest blogs via newsletters right in your mailbox.
No Spam. Cancel Anytime.

जो अपने प्राणों पर महारत पा लेता है, वह सौ फीसदी अपने मानसिक संतुलन को भी बनाए रख सकता है। इस तरह आप खुद को कई तरह के शारीरिक रोगों से भी बचा सकते हैं। हालांकि आजकल के माहौल में होने वाले संक्रमण और जहरीले रसायनों से होने वाले खतरे तब भी बने रहेंगे। वायु, जल और भोजन के जरिए शरीर में जाने वाले तत्वों पर हम पूरी तरह से काबू नहीं पा सकते, भले ही हम कितने भी सावधान क्यों न रहें। लेकिन इनका असर हर व्यक्ति के लिए अलग होता है।  

बाहरी कारणों की वजह से शारीरिक सेहत की सौ प्रतिशत गारंटी नहीं दी जा सकती, लेकिन अगर प्राणों को अपने वश में कर लें तो मानसिक सेहत की सौ प्रतिशत गारंटी है। अगर आप मानसिक तौर पर स्वस्थ होंगे तो थोड़े-बहुत शारीरिक मसलों से आपको कोई हानि नहीं होगी। अक्सर किसी शारीरिक परेशानी की स्थिति में, उस शारीरिक कष्ट से ज्यादा परेशानी, उसकी वजह से मन में उपजी प्रतिक्रिया से होती है। प्राण आपके साथ कैसे काम करते हैं, वे बाकी ब्रह्माण्ड के साथ कैसे काम करते हैं, वे किसी नवजात के शरीर में कैसे प्रवेश करते हैं, मरने वाले के शरीर को कैसे छोड़ते हैं - इन सब बातों को देखकर पता चलता है कि उनके पास अपनी एक समझ है।  

IE-DiscountBannerUpdate20percent-Eng_Mid Blog banner_Jul2021 600x120

शक्ति चालन क्रिया – आपके प्राणों के साथ काम करना 

पाँचों प्राण कैसे काम करते हैं, इसे जानने के लिए आपको सजगता के निश्चित स्तर की जरूरत होगी। शक्ति चालन क्रिया एक अद्भुत प्रक्रिया है, पर आपको सजग होना होगा। आपको पूरे चालीस से साठ मिनट तक केन्द्रित रहना होगा। अधिकतर लोग एक पूरी साँस पर अपना ध्यान नहीं टिका सकते। बीच में कहीं उनके विचार कहीं और चले जाते हैं, या फिर वे गिनती भूल जाते हैं। उस बिंदु पर आने के लिए महीनों और सालों के अभ्यास की जरूरत होगी जिस पर आ कर, अपनी श्वास पर ध्यान केंद्रित करने के सारे चक्रों को पूरा कर सकें। यही वजह है कि शक्ति चालन क्रिया को शून्य-ध्यान के साथ सिखाया जाता है। यह ध्यान आपको उस जगह ले आता है, जिसमें आंखें बंद करते ही आप दुनिया से दूर हो जाते हैं। यह अपने-आप में किसी वरदान से कम नहीं है। अगर आप ऐसा कर लें तो आप किसी भी चीज पर कुछ समय तक एकाग्र रह सकेंगे। अगर आप ऐसा जबरन करना चाहें तो उससे कोई लाभ नहीं होगा। 

अगर आप अपनी आंखों को बंद करें तो आपके लिए मौजूद होना चाहिए - सिर्फ आपकी सांस, धड़कन, शरीर की कियाएं और आपके प्राण के क्रियाकलाप। सिर्फ वही जो भीतर घटित हो रहा है, वही जीवन है। जो कुछ भी बाहर घटित हो रहा है, वह सिर्फ छाया है।

केन्द्रित रहना ही मूलमंत्र है 

शून्य और अन्य साधना उसी ओर ले जाती हैं। आप कितनी दूर जा पाते हैं, वह अलग बात है- खासतौर पर आज की दुनिया में। मैं अपने आसपास घट रहे जीवन के खिलाफ नहीं हूं, पर आजकल उथलेपन का चलन है। गहराई कहीं खोती जा रही है। इस रवैए के साथ आप कभी नहीं जान पाएंगे कि जीवन आपके भीतर कैसे काम करता है। इसका मतलब यह नहीं कि इंसान जान नहीं सकता। यह सब इस बात पर निर्भर करता है कि आप इसे कितनी अहमियत देते हैं। अगर आपने इसे अपनी प्राथमिकता बनाया तो सब कुछ अपने-आप ही व्यवस्थित हो जाएगा। 

आपके भीतर का यह जीवन - यही सच्चाई है - बाकी सब तो दिखावा भर है। इस समय, सारा ध्यान दिखावे पर है, हकीकत पर नहीं है।

अगर आपकी प्राथमिकता अलग दिशा में गई तो आप कहीं भी जाएँ, पर जीवन को बुनियादी तौर पर नहीं जान सकते। सामाजिक स्तर पर, आप कहीं पहुँच सकते हैं, शारीरिक स्तर पर जीवन कब्र की ओर जा रहा है, ज्यादा से ज्यादा आप इसका रास्ता थोड़ा लंबा कर सकते हैं। जहाँ तक मन का सवाल है, यह तो लगातार गोल-गोल घूम रहा है। अगर आपने जीवन के बुनियादी स्वभाव पर ध्यान दिया तो जीवन आपको कहीं न कहीं अवश्य ले जाएगा। आपके भीतर का यह जीवन - यही सच्चाई है - बाकी सब तो दिखावा भर है। इस समय, सारा ध्यान दिखावे पर है, हकीकत पर नहीं है। 

शक्ति चालन क्रिया के साथ, रूपांतरण धीरे-धीरे होता है। अपने प्राण का दायित्व लेना और तंत्र में इसकी प्रक्रियाओं पर ध्यान देना, एक अद्भुत सिलसिला है। शक्ति चालन क्रिया उसी स्तर पर काम करती है। अगर आप इसका अभ्यास करें, तो आप अपने तंत्र की बुनियाद मजबूत कर सकते हैं।  

शाम्भवी महामुद्रा - प्राण से परे 

शाम्भवी क्रिया के बारे में अहम बात यह है कि यह सृष्टि के स्रोत को छूने का एक साधन है, जो प्राण से परे है।

शाम्भवी महामुद्रा में वह क्षमता है जो आपको उस आयाम को स्पर्श करा सकती है, जो इन सबका आधार है। लेकिन आप इसे सक्रिय तौर पर नहीं कर सकते। आप केवल माहौल को तय कर सकते हैं। हम शाम्भवी को हमेशा स्त्रीवाचक मानते हैं। उसके फलदायी होने के लिए आपके भीतर श्रद्धा का भाव होना चाहिए। आप सृष्टि के स्रोत के केवल संपर्क में आ सकते हैं - आपको इससे और कुछ नहीं करना। शाम्भवी में प्राणायाम का एक तत्व भी मौजूद होता, जो कई तरह से लाभदायक है। 

शाम्भवी क्रिया के बारे में अहम बात यह है कि यह सृष्टि के स्रोत को छूने का एक साधन है, जो प्राण से परे है। यह पहले दिन भी ही हो सकता है या यह भी हो सकता है कि आपको छह माह में भी कोई नतीजा न मिले। पर अगर आप इसे करते रहे, तो एक दिन आप इस आयाम को छू लेंगे। अगर आप इसे छू लेंगे, तो अचानक सब कुछ रूपांतरित हो जाएगा। .