Mystic

Our two eyes can capture the physical world, that which can block light but are blind to all else. Only by opening the third eye can one perceive that which is seen and unseen. This is the realm of mysticism, of knowing life in its full depth and dimension. Sadhguru is a bridge into this mysterious arena of life. It is a homecoming, a settling back into yourself.

FILTERS:
View All
Video
प्राण-प्रतिष्ठा के अनुभव
प्रतिभागी उस आदियोगी आलयम प्राण प्रतिष्ठा के अनुभव साझा कर रहे हैं, जो ईशा योग केंद्र, भारत में 23-24 दिसंबर, 2012 को हुई थी।
Article
आदियोगी और ध्यानलिंग में क्या अंतर है?
सद्गुरु आदियोगी आलयम और ध्यानलिंग के बीच के अंतर को समझा रहे हैं।
Poem
शिव का धाम - आदि योगी आलयम
ईशा योग केंद्र में आदियोगी आलयम की प्राण-प्रतिष्ठा 23-24 दिसंबर 2012 को की गई थी। पढ़ते हैं आदियोगी आलयं पर सद्‌गुरु की कविता।
Article
अनादी - सद्‌गुरु के साथ 90 दिनों तक चला था ये कार्यक्रम
2010 की गर्मियों में सद्‌गुरु ने अमेरिका के ईशा इंस्टीट्यूट ऑफ इनर साइंसेज में करीब 200 प्रतिभागियों के लिए 3 महीने का कार्यक्रम आयोजित किया। इस कार्यक्रम का नाम अनादि रखा गया, जिसका अर्थ है, आरंभ से रहित।
Ebook
रहस्यवादी और भूलें
सद्गुरु कहते हैं, ‘सिर्फ दो तरह के लोग होते हैं: रहस्यवादी (मिस्टिक) और भूल (मिस्टेक)।’ यह श्राप सा लगता है, मगर शुक्र है कि भूलों को सुधारा जा सकता है और यह पुस्तक साधकों को यही उम्मीद दिखाती है।
Article
अनादि: एक आंसूओं से भरा समापन
2010 की गर्मियों में सद्गुरु ने अमेरिका के ईशा इंस्टीट्यूट ऑफ इनर साइंसेज में करीब 200 प्रतिभागियों के लिए 3 महीने का कार्यक्रम आयोजित किया। इस कार्यक्रम का नाम अनादि रखा गया, जिसका अर्थ है, आरंभ से रहित।
Article
लिंग भैरवी​, ​ध्यानलिंग और स्पंदा हॉल - एक गूढ़ प्रणाली
सद्‌गुरु भारत के ईशा योग केंद्र में स्पंदा हॉल के बारे में बता रहे हैं। साथ ही वह उस जटिल प्रणाली, जिसमें ध्यानलिंग और लिंग भैरवी शामिल हैं, में उसके स्थान के बारे में बता रहे हैं।
Video
यु.एस. आश्रम में महिमा हॉल की प्राण-प्रतिष्ठा
सद्‌गुरु महिमा की प्राण प्रतिष्ठा के बारे में बता रहे हैं, जो अमेरिका के ईशा इंस्टीट्यूट ऑफ इनर साइंसेज में की गई थी।
Ebook
एम्बिशन से विज़न तक
सद्गुरु की ईबुक ‘Ambition to Vision’ चरम कार्ययोजना की दिशा में पहला कदम दिखाती है, ताकि हम अपने अस्तित्व के हर पहलू को समझ सकें और खुद को जैसा चाहते हैं, वैसा बना सकें।
Video
जल में याददाश्त होती है
आईआईटी मद्रास में बोलते हुए सद्गुरु जल पर वर्तमान वैज्ञानिक शोध के बारे में समझा रहे हैं और बता रहे हैं कि किस तरह पारंपरिक भारतीय सांस्कृतिक परिवेश में यह बात सभी को मालूम थी।
Video
सूर्यकुंड प्राण-प्रतिष्ठा वीडियो
दिसंबर 2012 में सद्गुरु ने सूर्यकुंड की प्राण प्रतिष्ठा की। यह दो दिन की प्रक्रिया थी, जिसमें 10,000 प्रतिभागी शामिल हुए। कार्यक्रम की झलकियां प्रस्तुत हैं।
Article
दिव्यता का अवतरण
थाईपूसम (उत्तरायण की पहली पूर्णिमा), 1997 को विजी की महासमाधि के दो दिन बाद सद्गुरु ने ये शब्द कहे थे।
Meet Sadhguru
Sadhguru Satsang Every Purnima
20 Oct 2021
Empower The Entrepreneur
25 - 28 Nov 2021
Yantra Ceremony with Sadhguru
31 Jan 2022
Isha Yoga Center, Coimbatore