कावेरी पुकारे अभियान की झलकें : ईरोड से तंजावुर की यात्रा

मेट्टूर और ईरोड के बाद, कावेरी पुकारे रैली ने जल तत्व के लिए समर्पित मंदिर तिरुवनईकवल में कुछ समय बिताया, और फिर तंजावुर के लिए रवाना हुई।
कावेरी पुकारे अभियान की झलकें : ईरोड से तंजावुर की यात्रा
 

सद्‌गुरु और अन्य मोटरसाइकिल सवार नट्टत्रेश्वरर मंदिर गए। ये मंदिर कावेरी नदी के एक द्वीप पर स्थित है। सद्‌गुरु ने बताया कि इस लिंग को अगस्त्य मुनि ने प्राण-प्रतिष्ठित किया था।

day-11-caca-eng-blog-pic10

प्रतिभागियों ने शाम में इस मंदिर में सद्‌गुरु के साथ एक सत्संग में हिस्सा लिया।

day-11-caca-eng-blog-pic12

day-11-caca-eng-blog-pic13

सद्‌गुरु ने सभी प्रतिभागियों से वापस जाने से पहले लिंग के दर्शन करने के लिए कहा।

सद्‌गुरु ने नदीमुख या डेल्टा क्षेत्रों की बुरी हालत बारे में बोलते हुए कहा - "नदीमुख कम उपजाऊ होते जा रहे हैं, क्योंकि गाद और बाढ़ की मिट्टी अब पहले की तरह वहां तक नहीं पहुँचती। वो डैम, चेक-डैम और बराजों में रुक जाती है। तो वो अब नदिमुखों तक नहीं पहुँच पाती। नदीमुख के लोगों को अब खुद अपनी खाद बनानी पड़ती है।

 
 
 
 
  0 Comments
 
 
Login / to join the conversation1