मध्यमावती : सुकून भरा एक संगीत

अलग अलग राग अलग-अलग तरह की मनोस्थितियों और भावों से जुड़े होते हैं। आइये आज सुनते हैं साउंड्स ऑफ़ ईशा का राग मध्यमावती पर रचा एक संगीत जो ध्यान के लिए उचित भाव पैदा करता है...
madhyamavati-sukoon-bhara-ek-sangeet
 

 अलग अलग राग अलग-अलग तरह की मनोस्थितियों और भावों से जुड़े होते हैं। आइये आज सुनते हैं  साउंड्स ऑफ़ ईशा का राग मध्यमावती पर रचा एक संगीत जो ध्यान के लिए उचित भाव पैदा करता है...

 

हालांकि शब्दों का अपना बौद्धिक आकर्षण होता है, मगर कई बार वाद्य संगीत ऐसी निर्मलता और स्पष्टता का माहौल उत्पन्न करता है, जो भाषा नहीं कर सकती। साउंड्स ऑफ ईशा ने अलग-अलग माहौल को अभिव्यक्त करने के लिए जो वाद्य संगीत तैयार किए हैं, उनमें से एक बेहद खूबसूरत नमूना मध्यमावती है। इसका नाम उस राग के नाम पर रखा गया है, जिस पर यह संगीत आधारित है।

यह संगीत एक जैमिंग सेशन से निकला। पहले बांसुरी की धुन मिली। जब हमने एक संगीत तैयार करने के लिए थोड़ी और मेहनत की तो हमें अपने स्वयंसेवकों में से कुछ और सहयोगियों को शामिल करने का सौभाग्य मिला। नतीजा आपके सामने है।

इस संगीत के माध्यम से हम किस वातावरण को अभिव्यक्त करें, इसके बारे में हमारी कोई खास योजना नहीं थी। मगर अपने अनुभव से हमें पता चला कि यह भावपूर्ण, ध्यान की अवस्था लाने वाला या आराम पहुंचाने वाला – शांतिदायक और गहन - हो सकता है।

हमें जरूर बताएं कि इसे लेकर आपका अनुभव कैसा रहा।

संपादक की टिप्पणी: मधुर गीतों और संगीत के लिए यूट्यूब पर साउंड्स ऑफ ईशा को फॉलो करें।

 डाउनलोड करें मध्यमावती