आनंद अलाई
सद्गुरु ने एक बार में 14,000 लोगों तक के लिए ‘आनंद अलै’ या आनंद की लहर जैसे बड़े पैमाने के कार्यक्रम भी आयोजित किए हैं और उन्हें शक्तिशाली शांभवी महामुद्रा क्रिया की दीक्षा दी है।
 
 
 
 

आनंद अलै या ‘आनंद की लहर’ दक्षिण भारत में तेजी से फैल रही एक आध्यात्मिक क्रांति है जो हजारों-लाखों लोगों के जीवन को छू रही है। इसमें सद्गुरु बड़े पैमाने पर आध्यात्मिक कार्यक्रम आयोजित करते हैं, जिनमें एक बार में 14000 लोग भाग ले सकते हैं। वह उन्हें शांभवी महामुद्रा में दीक्षित करते हैं जो जीवन को रूपांतरित करने वाली एक क्रिया है। इन कार्यक्रमों के दौरान वह सवालों के जवाब भी देते हैं और अपनी चिरपरिचित हाजिरजवाबी के साथ ज्ञान की बातें भी बताते हैं।