ieco
ieco

शिव को बेलपत्र प्रिय क्यों है?

article शिव की कथाएँ
प्रसिद्ध बिल्वाष्टकम विल्व के पत्तों के गुणों और इसके लिए शिव के प्रेम का गुणगान करता है। विल्व ऐसा क्यों है ...

शिव को विल्व पत्र पसंद क्यों है?

प्रसिद्ध बिल्वाष्टकम बेल के पत्तों के गुणों और इसके लिए शिव के प्रेम का गुणगान करता है। विल्व इतना पवित्र क्यों है? सामान्य ज्ञान से, हम जानते हैं कि इस पेड़ को कई सदियों से पवित्र माना जाता रहा है और जो भी शिव को अर्पित किया जाता है, विल्व के पत्तों के बिना अधूरा है। इस पत्ते के साथ कई प्रतीको को जोड़ा जाता है : माना जाता है कि त्रिकोणीय पत्ते या त्रिपत्र विभिन्न त्रिमूर्ति को दर्शाते हैं – सृजन, संरक्षण और विनाश; या तीन गुण सत्व, रज और तम ; या तीन शब्दांश जो ओम् को बनाते हैं, वह मौलिक ध्वनि जो शिव के सार को प्रतिध्वनित करती है। तीन पत्तियों को महादेव की तीन आंखों, या त्रिशूल, उनके जाने पहचाने हथियार को भी प्रतीकात्मक करने के लिए माना जाता है।

यह सब किवदंती के हिसाब से है। लेकिन जीवन के रूप में, विल्व को इतना पवित्र क्यों माना जाता है? सद्गुरु उत्तर देते हैं।

सद्‌गुरु: एक पत्ता दूसरे से ज्यादा पवित्र क्यों है? क्या यह किसी प्रकार का पूर्वाग्रह है? आखिर सब कुछ मिट्टी से ही आता है। नीम का फल और आम का फल दोनों एक ही मिट्टी से आते हैं लेकिन उनका स्वाद बहुत अलग होता है, है ना? एक विशिष्ट जीवन एक ही मिट्टी को जैसे प्रोसेस करता है और दूसरा जीवन उसी मिट्टी को जिस प्रकार प्रोसेस करता है यह अलग है। एक कीड़े और एक कीट में और आप में और दूसरे इंसान में क्या अंतर है? मसाला सबका एक ही है लेकिन फिर भी हम इससे जो बनाते हैं वह अलग है।

जब लोग आध्यात्मिक पथ पर होते हैं तो वे लगातार हर संभव तरीके से सहारे की तलाश में रहते हैं क्योंकि यह अज्ञात क्षेत्र है। भारतीय संस्कृति में, हर छोटी चीज जो आपको सहारा दे सकती थी, वह अवलोकन और ध्यान के माध्यम से पहचानी जाती थी। वे फूल, फल और पत्ते भी नहीं छोड़ते थे। विल्व को विशेष रूप से पवित्र क्यों माना जाता है? यह हमेशा कहा गया है कि शिव को विल्व प्रिय है। क्या वह परवाह करते है? ऐसा नहीं है कि यह शिव को प्रिय है। जब हम कहते हैं कि यह शिव को प्रिय है, तो हमारा मतलब है कि किसी न किसी रूप में इसकी गूंज, जिसे हम शिव कहते हैं, उसके सबसे करीब है।

हमने इस तरह की कई चीजों की पहचान की और केवल वही चीजें अर्पित की जाती हैं जो आपका उनसे संपर्क बनाने का साधन बन जाती हैं। जब आप शिव को विल्व अर्पित करते हैं, तो आप पत्ता उनके साथ नहीं छोड़ने वाले हैं। चढ़ाने के बाद आपको इसे अपने साथ ले जाना चाहिए क्योंकि इस विशेष पत्ते में उस गूंज को अवशोषित करने की उच्चतम क्षमता है। यदि आप इसे लिंग पर रखते हैं और इसे वापस लेते हैं, तो यह लंबे समय तक गूंज को बनाए रखने की क्षमता रखता है। यह आपके साथ रहता है। आप इसे आजमा सकते हैं: विल्व का पत्ता चढ़ाएं, इसे अपनी छाती की जेब में रखें और घूमें, यह आपके स्वास्थ्य, भलाई, मानसिक स्थिति – सब कुछ के मामले में आपके लिए फर्क पैदा करेगा।

इस तरह के कई सामान हैं जो पवित्र उपकरण के रूप में जाने जाते हैं और जिनका लोग उपयोग करते हैं। यह देवताओं के बारे में नहीं है, यह आपके और किसी चीज तक पहुंचने की आपकी क्षमता के बारे में है।