logo
logo

आदि योगी - सद्गुरु की कविता

सद्‌गुरु अपनी कविता साझा कर रहे हैं, और आदियोगी शिव की रूपांतरण करने वाली शक्ति के बारे में बता रहे हैं।

एक शांत सागर
एक शांत दिन
एक शांत मन

पर अग्नि से धधकता
एक तीव्र हृदय
एक आदि ऋषि का।

सदियों से दहकता
अज्ञानी के लिए विनाशकारी
जिज्ञासु के लिए ज्ञानदायी
हठी के लिए निर्मम
इच्छुक के लिए कोमल।

जब सभी तरकीबें हो जाएंगी नाकाम
आदियोगी की अग्नि
अज्ञान की दीवार को जलाकर
कर देगी भविष्य के दुर्ग को रोशन।

भविष्य के दुर्ग बनते हैं
सबसे पहले उस मन में
जो अज्ञान या ज्ञान से भरा हो।

ये दुर्ग जब चमकेंगे
नीलवर्णी विधाता की कृपा के प्रकाश में
सफल हो जाएगा दुनिया में रहना
रास्ता मिलेगा परे जाने का।

कितने खुशकिस्मत हैं हम
आदियोगी की अग्नि को बढ़ा रहे हैं आगे।

    Share

Related Tags

आदियोगी

Get latest blogs on Shiva

Related Content

शिव और पार्वती की अजब शादी