अंदरूनी मार्ग

_20100705-Anaadhi-JAD-663
अंदरूनी मार्ग

 

जब सूरज सरकता है क्षितिज के नीचे

दुनिया के दूसरे हिस्से में

गर्मी और पोषण देने को

 

जब अंधियारा समेटता है हमें

धीरे से अपने आगोश में

रात की शीतलता देने को

 

कितने नर-नारी

करते हैं विश्राम

कठिन परिश्रम के बाद

पर जो हैं उधमी और जोशीले

वो रात में भी दीया जलाते हैं

 

कीड़े-मकोड़े और पक्षियों से भरे

जंगल में होती है खूब रौनक

पूरे शोर-शराबे के साथ वो

शुरु करते हैं आपसी बातचीत

बतियाते हैं वो सब कुछ

जो आप अगले दिन बतियाएंगे

 

और बस इतना ही करेंगे आप

अगर नहीं जानते अंदरूनी मार्ग।

-सद्‌गुरु

स्रोत: द इटर्नल एकोज़

यह कविता ईशा लहर जून 2014 से उद्धृत है।

आप ईशा लहर मैगज़ीन यहाँ से डाउनलोड करें या मैगज़ीन सब्सक्राइब करें।


संबन्धित पोस्ट


Type in below box in English and press Convert