Back to Home page

शिवांग साधना

कृपा का मार्ग

(इसमें पुरुष ऑनलाइन या व्यक्तिगत रूप से हिस्सा ले सकते हैं)

सद्‌गुरु द्वारा दी जाने वाली एक शक्तिशाली 42-दिवसीय साधना (केवल पुरुषों के लिए), जो शिव के प्रति आपकी ग्रहणशीलता और भक्ति को बढ़ाती है।

अगली साधना 11 अगस्त को है
रजिस्ट्रेशन शुल्क - रु 350 (*किट की लागत शामिल नहीं है)

शिवांग साधना क्या है?

शिवांग साधना आपमें यह जागरूकता लाने का एक साधन है कि आप शिव के एक अंग हैं, वे शिव जो सृष्टि का मूल स्रोत और परम संभावना हैं |


सद्गुरु

साधना भीतर से भक्ति लाने का एक अवसर है।


आप इस साधना को अपने घर के आराम से (ऑनलाइन) या व्यक्तिगत रूप से कर सकते हैं।

अनुवाद हिंदी, English, தமிழ், తెలుగు, ಕನ್ನಡ, മലയാളം में उपलब्ध है।

“जीवन में जबरदस्त सुधार हुआ है। मैंने अनुभव के स्तर पर यह देखना शुरू कर दिया है कि शिव हर जगह हैं। मेरे अनुभव में, सब कुछ शिव है, सिर्फ शिव है।”

विशाल

सप्लाई चेन मेनेजर, दिल्ली

“मैं वेल्लियांगिरी पर्वत पर चढ़ते समय शिव शंभो का जाप करता रहा। मुझे यह भी नहीं पता कि मैं शिखर पर कैसे पहुंचा। ऐसा लगा जैसे किसी और ने मुझे उठा लिया हो।”

अभिराम

इंटीरियर डिजाइनर, बैंगलोर

शिवांग साधना करने के लाभ

42 दिनों का एक शक्तिशाली व्रत
पवित्र “शिव नमस्कार” प्रक्रिया में दीक्षा
"दक्षिण के कैलाश" के रूप में जाने जाने वाले वेलियांगिरी पर्वत की तीर्थयात्रा
भीतरी खोज के लिए एक मजबूत शारीरिक और मानसिक आधार प्रदान करता है

अगली साधना 11 अगस्त को है

साधना की जानकारी

  • साधना के दिशा-निर्देश
  • रजिस्ट्रेशन
  • दीक्षा
  • समापन

यह साधना पूर्णिमा (पूर्णिमा के दिन) से शुरू होती है, और 42 दिन बाद शिवरात्रि (अमावस्या से एक दिन पहले) पर समाप्त होती है।

साधना के दिशा-निर्देश

  • यह साधना केवल पुरुषों के लिए है
  • शिव नमस्कार खाली पेट की स्थिति में दिन में 21 बार, सूर्योदय से पहले या सूर्यास्त के बाद किया जाना चाहिए। इसे पूरी भक्ति के साथ किया जाना चाहिए।
  • दिन में केवल 2 बार भोजन किया जा सकता है। पहला भोजन दोपहर 12 बजे के बाद होना चाहिए।
  • 8-10 काली मिर्च को 2-3 विल्वा के पत्तों के साथ शहद में और मुट्ठी भर मूंगफली को रात भर पानी में भिगो दें। सुबह खाली पेट इसके पत्तों को चबाकर खाएं। दैनिक शिवांग साधना पूर्ण करने के बाद काली मिर्च-शहद के मिश्रण में नींबू का रस मिलाकर सेवन करें। भीगी हुई मूंगफली का भी सेवन करें।
  • शावर / स्नान दिन में दो बार लेना चाहिए। साबुन के बजाय हर्बल स्नान पाउडर (स्नानमपोडी) का उपयोग किया जा सकता है।
  • भिक्षा कम से कम 21 लोगों से प्राप्त की जानी चाहिए। (वैकल्पिक)
  • साधना काल के दौरान सफेद या हल्के रंग के कपड़े पहने जा सकते हैं।
  • व्रत की अवधि के दौरान, धूम्रपान, शराब का सेवन और मांसाहारी भोजन खाने की अनुमति नहीं है।

आप साधना दिशानिर्देश हिंदी, தமிழ் और अंग्रेजी में भी डाउनलोड कर सकते हैं।

रजिस्ट्रेशन

  • दीक्षा में भाग लेने के लिए पंजीकरण अनिवार्य है
  • साधना के लिए शिवांग किट की आवश्यकता होती है। आप इस किट को ईशा लाइफ. से मंगवा सकते हैं।

दीक्षा

  • एक प्रशिक्षित शिवांग पूर्णिमा पर प्रतिभागियों को साधना में शामिल करेगा। आप ऑनलाइन भी भाग ले सकते हैं
  • साधना पूर्णिमा (पूर्णिमा के दिन) से शुरू होती है और 42 दिन बाद शिवरात्रि (अमावस्या से एक दिन पहले) पर समाप्त होती है।

समापन

  • शिवरात्रि पर कोयंबटूर में शिवांगों का ध्यानलिंग में आना वैकल्पिक है।
  • जो लोग इसे ईशा योग केंद्र, कोयंबटूर में नहीं कर सकते, उनके लिए भी ऑनलाइन समापन की सुविधा है
अगली साधना 11 अगस्त को है

मैं वेल्लिंगिरी जाने को लेकर बहुत उत्साहित था। यह सिर्फ ट्रेकिंग नहीं है, यह परमात्मा से मिलने की तरह है। अगर आप जीवन में सिर्फ एक बार वहां जाएंगे, तो आप खुद जान जाएँगे!

प्रवीण

मुंबई

मैं सोच रहा था कि यह बस एक और पहाड़ी ट्रेक होगा। लेकिन वेल्लिंगिरी आपको आपकी शारीरिक सीमाएं के बारे में जागरूक कराता है - ऐसी सीमाएं जिनके बारे में आपको कभी पता नहीं था। यह यात्रा आपको तोड़ देगी, पर इस यात्रा के बाद आप खिल उठेंगे !

सुविज्ञ:

रोबोटिक इंजीनियर, बैंगलोर

आगामी तारीखें

दीक्षा और समापन ऑनलाइन आयोजित किए जाएंगे। ध्यानलिंग में समापन और वेल्लिंगिरी पर्वत की यात्रा – ये दोनों वैकल्पिक हैं।

दीक्षा
समापन की तारीख
यात्रा की तारीख
16 Apr 2022 (Chitra Purnima)
28 May 2022
29 May 2022
15 May 2022
27 Jun 2022
28 Jun 2022
14 Jun 2022
26 Jul 2022
27 Jul 2022 (Adi Amavasya)
13 Jul 2022 (Guru Purnima)
25 Aug 2022
26 Aug 2022
11 Aug 2022
24 Sep 2022
25 Sep 2022 (Mahalaya Amavasya)
10 Sep 2022
23 Oct 2022
24 Oct 2022
9 Oct 2022
22 Nov 2022
23 Nov 2022
7 Nov 2022
21 Dec 2022
22 Dec 2022
7 Dec 2022
20 Jan 2023
21 Jan 2023

सभी दान टीकेबीपी गैर-लाभकारी ट्रस्ट को जाएंगे

क्या आप हिस्सा लेना चाहते हैं?अगले चरण हैं

1

रजिस्टर

शिवांग साधना में दीक्षित होने के लिए रजिस्टर करना ज़रूरी है।

2

साधना किट

दीक्षा में शामिल होने के लिए साधना किट ज़रूरी है। इसे आप ईशा लाइफ से ऑर्डर कर सकते हैं।

3

दीक्षा

आप स्थानीय केंद्र पर शिवांग टीचर्स से ऑनलाइन या व्यक्तिगत रूप से दीक्षा प्राप्त कर सकते हैं। इन शिवांग टीचर्स को ट्रेनिंग मिल चुकी है।

4

समापन

आप इस साधना को ऑनलाइन या व्यक्तिगत रूप से ईशा योग केंद्र में आकर समाप्त कर सकते हैं।

शिवांग स्पूर्ति के साथ अपनी भक्ति को प्रज्वलित करें

शिव को स्फूर्तिदायक भक्ति मंत्र अर्पित करें, और अपने अंदर भक्ति की अग्नि को पोषित करें। साथ ही सद्गुरु से व्यावहारिक ज्ञान और शक्तिशाली निर्देशित ध्यान सीखें।

समय:

7-8 PM IST

तारीख:

हर अमावस्या पर

सामान्य प्रश्न

संपर्क करें

साधना के दौरान कोई भी प्रश्न पूछने के लिए कृपया अपने स्थानीय शिवांग कोऑर्डिनेटर से संपर्क करें।

आप हमसे यहाँ भी संपर्क कर सकते हैं :
info@shivanga.org | +9183000 83111

अधिक जानकारी के लिए शिवांग ब्रोशर डाउनलोड करें।

 
Close