Life is Movement

Makar-Sankranti-27
[twocol_one] [translate lang=english]

 
Sunday was Makara Sankranti. It is celebrated as a very important festival in this part of the world. Sankranti literally means ‘movement’. Everything that we recognize as life is movement. Fortunately, people who came before us have moved on, and people who come after us are waiting for us to move on — don’t have any doubts about this. The planet is moving and that is why it churns up life. If it were still, it wouldn’t be capable of life. So there is something called movement in which every creature is involved, but if there has to be movement, this movement has to be housed — this movement can only happen in the lap of stillness. One who does not touch the stillness of his life, one who does not touch the stillness of his being, one who does not know or has not tasted the stillness within and without, will invariably get lost in the movement.

Movement is pleasant only to a point. The planet earth is moving gently in such a beautiful manner — it is only changing seasons. Tomorrow, if it just speeds up, throttles up a little bit, then all our seemingly balanced minds will become imbalanced, everything will spin out of control. So movement is beautiful only to a certain point. Once it crosses that point, movement becomes torture.

Makara Sankranti is the day where there is a significant movement in the zodiac — the arrangement of the earth’s dial around the sun — and this movement brings about a new change in the way we experience the planet itself. There are many sankrantis through the year; the two significant ones being Makara Sankranti, and right opposite in the month of June is Mesha Sankranti. In between, there are many Sankrantis – every time the zodiac sign changes, it is called a Sankranti to suggest the movement of the planet, to understand that our life is sustained and nourished by this movement. If this movement ceases, everything about us will cease. On the 22nd of December, the solstice happened, that means in relation to the sun, the movement or the tilt of the planet reaches its maximum. Now, from this day onwards, the northern movement is strong. Things really start changing upon the earth. From Makara Sankranti onwards, winter is being relieved step by step.

This movement is also a significant aspect in the way we reap from this planet. There was a time when human beings could eat only what the earth offered. Then we learned how to get what we wanted from the earth; this is called agriculture. When we were hunting and gathering, we only picked up what was there. It is like when you were an infant, you ate or swallowed whatever your mother gave you. When you became a child, you asked for what you wanted. So we grew up a bit and started demanding and getting what we wanted, but still, you can only get what you want to a point that She is willing. If you stretch it beyond that, you will not only not get it, you will get something else. That is called industrialization. Agriculture is coaxing the Mother to give what you want. Industrialization is ripping her apart. I am not speaking against something. I want you to understand the way our minds are transiting, the way human activity is transiting from one level to another.

This is a day when we remind ourselves that everything that we are is what we take from this planet. I see everywhere in the world, people are talking about giving. I don’t know from where they give. You can only take – either you take gently or you grab. Did you come with your own property from somewhere? What is there to give? You can only take. Everything is offered. Take sensibly, that is all there is.

[/translate] [translate lang=hindi]

 
रविवार को मकर संक्रांति थी। दुनिया के इस हिस्से में यह एक बेहद महत्वपूर्ण पर्व के रूप में मनाई जाती है। सक्रांति का शाब्दिक अर्थ है – गति या चाल। जीवन के रूप में हम जिसे भी जानते हैं, उसमें गति निहित है। सौभाग्य से हमसे पहले जो इस दुनिया में आए वह चले गए और जो लोग हमारे बाद आने वाले हैं, वे हमारे जाने का इंतजार कर रहे हैं – इस बारे में अपने मन में कोई शक मत रखिए। यह पृथ्वी भी गतिशील है, इसी गतिशीलता का नतीजा है कि इससे जीवन उपजा है। अगर यह स्थिर होती तो इस पर जीवन होना संभव ही नहीं था। इसलिए इस सृष्टि में गतिशीतला नामक कोई चीज है, जिसमें हर प्राणी शामिल है, लेकिन अगर सृष्टि में गति है तो उस गति का विराम भी होना चाहिए। दरअसल, निश्चतला या स्थिरता की कोख से ही गति का जन्म होता है। जिसने अपने जीवन की निश्चलता का अहसास न किया हो, जिसने अपने अस्तित्व की स्थिरता को महसूस न किया हो, जिसने अपने भीतर और बाहर की निश्चलता को जाना या महसूसा न किया हो वह गति के चक्करों में पूरी तरह से खो जाएगा।

गतिशीलता एक निश्चित बिंदु या सीमा तक ही सुखद लगती है। यह ग्रह पृथ्वी बेहद सौम्य और खूबसूरत तरीके से घूम रही है – इसी वजह से मौसम बदलते हैं। कल को अगर यह अपनी गति बढ़ा दे और थोड़ा तेजी से घूमने लगे तो हमारा संतुलित दिमाग पूरी तरह से असंतुलित हो उठेगा और हर चीज नियंत्रण से बाहर हो जाएगी। इसलिए गतिशीलता एक सीमा तक ही सुखद और अच्छी लगती है। एक बार अगर यह अपनी सीमा से बाहर निकल जाती है तो गतिशीलता यंत्रणा बन जाती है।

मकर संक्रांति वह दिन है, जब राशिचक्र में महत्वपूर्ण बदलाव होता है। इस गतिशीलता से जो नए बदलाव होते हैं, वे हमें पृथ्वी पर दिखाई देते और महसूस होते हैं। यूं तो साल भर में कई संक्रांतियां होती हैं, लेकिन दो संक्रातियों का विशेष महत्व है, पहली मकर संक्रांति और दूसरी इससे बिल्कुल उलट जून महीने में होने वाली मेष संक्रांति। इन दोनों के बीच में कई संक्रांतियां होती हैं, हर बार जब राशि चक्र बदलता है तो इसे संक्रांति कहा जाता है, जिसका आशय पृथ्वी की गतिशीलता को दर्शाना और हमें यह बताना है कि हमारा जीवन इसी गतिशीलता पर आधारित और पोषित है। अगर यह गतिशीलता रुक जाए तो हमारे जीवन से जुड़ा सब कुछ रुक जाएगा। हर 22 दिसंबर को अयनांत होता है, सूर्य के संदर्भ में जिसका मतलब होता है कि इस दिन पृथ्वी की गति या झुकाव अपनी चरमावस्था पर पहुंच जाता है। फिर इस दिन के बाद से गति उत्तर की ओर बढ़ने लगती है। इसके बाद धरती पर चीजें बदलनी शुरू हो जाती हैं। मकर संक्रांति के बाद से जाड़ा धीरे-धारे कम होने लगता है।

इस पृथ्वी से हम जो पाते हैं, उस संदर्भ में भी इसकी गतिशीलता भी काफी महत्व रखती है। एक समय ऐसा था, जब इंसान केवल वही खा सकता था, जो धरती उसे देती थी। इसके बाद हमने सीखा कि कैसे हम इस धरती से वो हासिल कर सकते हैं, जो हम चाहते हैं, यह प्रक्रिया कृषि कहलाई। जह हम शिकार करते थे या भोजन तलाशा और इकठ्ठा किया करते थे तो हमें वही मिलता था, जो वहां उपलब्ध होता था। यह कुछ ऐसा ही है कि जब आप अबोध शिशु होते हैं तो आपकी मां आपको जो देती है, बस आप वही खाते हैं। जब आप बच्चे होते हैं तो आप अपनी मनचाही चीजों की मांगने लगते हैं। फिर जब हम कुछ बड़े हो गए और वह मांगने और पाने लगे जो हम चाहते थे, लेकिन अभी भी आपको अपना मनचाहा सिर्फ उतना ही मिलता है, जितना या जिस हद तक मां वह आपको देना चाहती है या देने की इच्छुक है। अगर आप अपनी मांग को इस हद से से ज्यादा खींचने की कोशिश करेंगे तो आपको वो सारी चीजें तो मिलेगी नहीं, हां कुछ और जरूर मिल सकता है। यही औद्योगिकीकरण कहलाता है। कृषि वह है, जिसमें आप अपनी मां से अपनी मनचाही देने की खुशामद करते हैं, जबकि औद्योगिकरण में आप अपनी मांगों से उसे विदीर्ण या छिन्न-भिन्न कर देते हैं। आप इसे अन्यथा न लें, मैं किसी चीज के खिलाफ नहीं बोल रहा हूं। मैं चाहता हूं कि आप उस तरीके या प्रक्रिया को समझें, जिससे हमारा दिमाग या इंसानी गतिविधियां एक स्तर से दूसरे स्तर तक संचारित हो रही हैं।

यह दिन हमें याद यह दिलाता है कि आज हम जो कुछ भी हैं, वो सब इसी धरती से ही लिया हुआ है। मैं देखता हूं कि आज दुनिया में हर तरफ लोग देने की बात कर रहे हैं। मुझे समझ नहीं आता कि वे कहां से ये सब दे रहे हैं। अगर आप कुछ कर सकते हैं तो वह है सिर्फ लेना- अब लेने को आप बेहद सौम्य या सभ्य तरीके से भी ले सकते हैं या फिर आप छीन सकते हैं। क्या आप इस दुनिया में अपनी संपत्ति के साथ कहीं और से आए हैं? आपके पास देने के लिए है क्या? आप सिर्फ ले सकते हैं। हर चीज आपको मिली हुई है। उसे समझदारी से ग्रहण करें, बस इतना ही काफी है।
[/translate] [/twocol_one] [twocol_one_last] [translate lang=english]

Makara Sankranti is also known and referred to as the harvest festival because this is the time when harvesting is complete and there are big celebrations. This is the day we acknowledge all those who assisted in making the harvest. The farm animals play a huge role in harvesting, so the following day is for them; Monday was Mattu Pongal. The first day is for the earth, the second is for us and the third is for the animals and livestock. See, they are placed a little higher than us because we exist because of them, they do not exist because of us. If we were not here, they would all be free and happy. But if they were not here, we couldn’t live.

So this is a festival for harvest; this is a festival to recognize the movement, movement being celebration, movement being life, movement being the process of life and the beginning and the end of life. At the same time, the word ‘shankara’ is used to remind you that the one behind this, Shiva, is a still one; stillness is the basis of movement. Though all the other planets are moving, the most important one is not moving. If the sun also takes a walk, then we are in trouble. He hangs there not moving. That is why everybody else’s movement is okay. But his stillness is relative because the whole solar system may be moving; the whole galaxy may be moving. So beyond that, the space which holds all this is absolute stillness.

When a human being makes the necessary effort to touch the stillness within himself, only then he knows the joy of movement. Otherwise, people are bewildered by the movement of life. Every change that happens in their life they suffer. These days, the so-called modern life is like this — any change means you must suffer. Childhood is tension, puberty is great suffering, middle age is unbearable, old age is abhorred and feared, and death is celebration — no that is pure terror. Every stage of life is a problem because people have a problem with movement, not understanding that the very nature of life is movement. You can only enjoy and celebrate movement if you have one leg stuck in stillness. If you know what stillness is then movement would be a pleasure. If you do not know what stillness is, if you have no contact with stillness, movement is bewildering.

People are trying to track the movement. Looking at the stars, looking at lines in their hands and looking at all kinds of signs including the tea leaves. People want to read the movement of their lives somehow. This struggle with movement, this paranoia about movement, is happening because there is no taste of stillness. If there was a taste of stillness in you, movement would not disturb you. It is something which sets a certain rhythm. Every rhythm has a beginning and an end; every movement has a beginning and an end. Movement means that which is in transition. Stillness means that which always is. Movement means compulsiveness, stillness means consciousness.

Makara Sankranti is the time to remind yourself that celebrating movement is possible only when there is a taste of stillness within you.
[/translate] [translate lang=hindi]

मकर संक्रांति को फसलों से जुड़े त्यौहार या पर्व के रूप में भी जाना व पहचाना जाता है। दरअसल, यही वह समय है, जब फसल तैयार हो चुकी है और हम उसी की खुशी व उत्सव मना रहे हैं। इस दिन हम हर उस चीज का आभार दर्शाते हैं, जिसने खेती करने व फसल उगाने में मदद की है। कृषि से जुड़े पशुओं का खेती में एक बड़ा योगदान होता है, इसलिए मकर संक्रांति का अगला दिन उनके लिए होता है। सोमवार को मट्टू पोंगल था। पहला दिन धरती का होता है, दूसरा दिन हमारा होता है और तीसरा दिन जानवरों व मवेशियों का। देखिए, उनकी जगह हमसे ऊपर इसलिए रखी गई है, क्योंकि हमारा अस्तित्व उन्हीं की वजह से है। वे हमारी वजह से नहीं हैं, हम उनकी वजह से हैं। अगर हम धरती पर नहीं होते तो वे सब आजाद और खुश होते। लेकिन वो अगर यहां नहीं होते तो हम जीवित नहीं होते।

इसलिए यह फसलों का त्यौहार है, यह गतिशीलता के महत्व को रेखांकित करने का त्यौहार है, गतिशीलता के जश्न के लिए, गतिशीलता जो जीवन बनी, गतिशीलता जो जीवन की प्रक्रिया और जीवन का आदि और अंत बनी। और उसी के साथ ‘शंकर’ शब्द आपको याद दिलाता है कि इस सबके पीछे जो है, वह है- शिव, जो पूर्ण निश्चल या अचल है, निश्चलता ही गति का आधार और मूल है। अगर सूर्य भी घूमने लगे तो हम मुसीबत में आ जाएंगे। वह गतिशील न होकर एक जगह अचल रहता है, इसलिए हर चीज की गतिशीलता अपने रास्ते पर रहती है। लेकिन उसकी स्थिरता या अचलता सापेक्षिक है, क्योंकि हो सकता है कि पूरा सौर मंडल गतिशील हो या पूरी आकाशगंगा गतिशील हो। अतः इससे परे जो अंतरिक्ष है इन सबको अपने में समाहित किए या थामे हुए है, वह भी पूर्ण रूप से स्थिर या अचल है।

जब कोई इंसान अपने भीतर की स्थिरता से संबंध बनाने की कोशिश करता है, तभी वह गतिशीलता का आनंद जान सकता है, अन्यथा मनुष्य जीवन की गतिशीलता से घबरा जाता है। उनके जीवन में आना वाला हर बदलाव या परिवर्तन उनके लिए दुख या पीड़ा का कारण बनता है। इन दिनों, आज का तथाकथित आधुनिक जीवन ही ऐसा है, जिसके हर बदलाव में आपको पीड़ित होना तय है। जहां बचपन एक तनाव है, किशोरावस्था या युवावस्था उससे बड़ा दुख है, प्रौढ़ावस्था असहनीय है, जबकि बुढ़ापा डरा और सकुचा हुआ और मृत्यु या अंत किसी घोर आतंक या खौफ से कम नहीं। जीवन के हर स्तर या चरण पर कुछ न कुछ समस्या है और वह इसलिए, क्योंकि इंसान को बदलाव से दिक्कत है। दरअसल, वह समझना ही नहीं चाहता कि जीवन की असली प्रकृति ही बदलाव है। आप गतिशीलता का तभी आनंद ले पाएंगे या जश्न मना पाएंगे, जब आपका एक पैर स्थिरता में जमा होगा। अगर आपको स्थिरता का अहसास है, तो गतिशीलता आपके लिए सुखद अनुभूति होगी। अगर आपको पता ही नहीं कि स्थिरता क्या है या आपका उससे कोई संबंध ही नहीं है तो फिर गतिशीलता आपको हैरान कर सकती है।

लोग इस गति के पीछे की चीजों को समझने की कोशिश कर रहे हैं। कभी तारों को देखकर तो कभी अपने हाथों की लकीरों में और सभी प्रकार की आकृतियों के संकेतों को देखकर यहां तक कि चाय की पत्तियों में भी लोग किसी तरह से अपने जीवन की गतियों और चाल को समझना चाहते हैं। गतिशीलता के साथ यह संघर्ष, गतिशीलता के बारे में पीड़ा व उन्‍माद वगैरह इसलिए हो रहे हैं, क्योंकि लोगों को स्थिरता का तनिक भी अनुभव नहीं है। अगर आपको स्थिरता का अहसास होगा तो गति आपको परेशान नहीं करेगी। यह वो चीज है, जो आपमें एक निश्चित लय पैदा करती है। हर लय की अपनी एक शुरुआत और एक अंत होता है, इसी तरह से हर गति की एक शुरुआत और एक अंत है। गति का अर्थ ही है, जो बदल सके या चलायमान हो। जबकि निश्‍चलता का मतलब है जो हमेशा रहे। गतिशीलता का अर्थ है बाध्यता और निश्‍चलता का मतलब है चेतना।

मकर संक्रांति का पर्व यह याद दिलाता है कि गतिशीलता का उत्सव मनाना तभी संभव है, जब आपको अपने भीतर निश्चतला का अहसास हो।

[/translate]

அன்பும் அருளும்,

Sadhguru
[/twocol_one_last]



இதையும் வாசியுங்கள்

Type in below box in English and press Convert