शरीर

ये सभी ब्लोग्स एक श्रृंखला का हिस्सा हैं, जिसमे सद्गुरु आध्यात्मिकता में मानव शरीर के महत्व के बारे में बात कर रहे हैं। इस श्रृंखला से आप शरीर के चक्रों, शरीर को बनाने वाले पांच तत्वों, शरीर की बिमारियों के बारे में जान सकते हैं। नींद, प्राण ऊर्जा और अन्य पहलूओं पर हुए संवाद भी इसमें शामिल हैं।

विशुद्धि चक्र – परा-विद्याओं का नीले आभामंडल वाला केंद्र

तंत्र विद्याओं से जुड़े दो चक्र होते हैं – मूलाधार और विशुद्धि। विशुद्धि चक्र सक्रिय होने से आभामंडल नीला हो जाता है। जानते हैं... ...
और पढ़ें

मणिपूरक चक्र : मार्शल आर्ट्स और भरण पोषण का केंद्र

मणिपूरक चक्र में सभी नाड़ियाँ मिलती हैं और फिर बंट जाती हैं। यही बात उसे मार्शल आर्ट और अजपा जप में विशेष रूप से... ...
और पढ़ें
अनामिका या रिंग फिंगर में क्यों पहनते हैं अंगूठी

अनामिका या रिंग फिंगर में क्यों पहनते हैं अंगूठी?

सगाई की अंगूठी हो या पूजा पाठ की रश्में, हमारी संस्कृति में अनामिका यानी रिंग फ़िंगर को बहुत अहमियत दी गई है, आख़िर क्यों?... ...
और पढ़ें
ईशा लहर फरवरी 2018 - शरीर के चक्रों का गणित और विज्ञान

ईशा लहर फरवरी 2018 – शरीर के चक्रों का गणित और विज्ञान

हमारा फरवरी अंक हमारे शरीर के प्राणमय कोष में मौजूद चक्रों को समर्पित है। सातों चक्रों में से हरेक का एक अलग रंग, एक... ...
और पढ़ें
ध्यान करने में शरीर की मदद लेने के सरल तरीके-20170402_CHI_0074-e

ध्यान करने में शरीर की मदद लेने के सरल तरीके

जानते हैं कुछ सरल तरीके जिनसे हम ध्यानमय अवस्था की ओर बढ़ सकते हैं। सद्‌गुरु बताते हैं कि ध्यान का अभ्यास करने के साथ... ...
और पढ़ें
क्या एनेस्थीसिया लेने से चेतनता ख़त्म हो जाती है

क्या एनेस्थीसिया लेने से चेतनता ख़त्म हो जाती है?

जब किसी को एनेस्थीसिया देकर बेहोश किया जाता है, उस समय क्या उसकी चेतनता मर जाती है। अगर नहीं तो क्या होता है उसके... ...
और पढ़ें