आध्यात्मिक ज्ञान : सब कुछ मिलने पर भी क्यों है अधूरापन?

आध्यात्मिक ज्ञान : सब कुछ मिलने पर भी क्यों है अधूरापन?

सद्‌गुरुमन की प्रकृति ऐसी है कि वह हमेशा अधूरा ही महसूस करता है। चाहे अलग-अलग तरह की चीज़ों का संग्रह हो, ज्ञान का संग्रह हो या फिर अन्य लोगों को अपना बनाना हो। किसी न किसी तरह का संग्रह चलता ही रहता है। जानते हैं कि आध्यात्मिकता का अर्थ है मन से थोड़ी दूरी बनाना और रिक्त हो जाना

मन की प्रकृति है संग्रह करना

मन की प्रकृति हमेशा ही संग्रह करने की होती है। जब यह स्थूलरूप में होता है तो च़ीजों का संग्रह करना चाहता है, जब यह थोड़ा-सा विकसित होता है तो ज्ञान का संग्रह करना चाहता है।

वे सारी बातें जिन्हें आप सोचते और महसूस करते हैं तथा स्वयं के बीच जब एक दूरी बनाने लगते हैं तो इसे ही हम चेतना कहते हैं।
जब इसमें भावना प्रबल होती है तो यह लोगों का संग्रह करना चाहता है, इसकी मूल प्रकृति बस यही है कि यह संग्रह करना चाहता है। मन एक संग्रहकर्ता है, हमेशा कुछ न कुछ एकत्रित करना, बटोरना चाहता है। जब कोई व्यक्ति यह सोचने और विश्वास करने लगता है कि वह आध्यात्मिक मार्ग पर है तो उसका मन तथाकथित आध्यात्मिक ज्ञान का संग्रह करने लगता है।

हो सकता है कि यह गुरू के शब्दों का ही संचय करने लगे लेकिन यह जो भी संचित करे, जब तक कोई व्यक्ति संग्रह करने की ज़रूरत से उपर नहीं उठ जाता, तब तक कोई फर्क नहीं पड़ता – चाहे वह भोजन हो, कोई चीज़ हो, सांसारिक ज्ञान हो, लोग हों या आध्यात्मिक ज्ञान हो – यह कोई मायने नहीं रखता कि आप क्या इकट्ठा कर रहे हैं। संग्रह करने की ज़रूरत का अर्थ है कि अभी भी एक अधूरापन रह गया है। यह अधूरापन, अधूरा होने का भाव, इस असीमित प्राणी में घर कर गया है, इसका एकमात्र कारण यह है कि कहीं न कहीं आप अपनी पहचान उन सीमित च़ीजों के साथ बना लेते हैं जो कि आप हैं ही नहीं।

साधना और चेतना : कृपा के लिए करती हैं तैयार

अगर कोई व्यक्ति अपने जीवन में पर्याप्त चेतना प्राप्त कर लेता है, और निरंतर किसी साधना का अभ्यास करता है तो उसका यह पात्र धीरे-धीरे पूर्णतः खाली हो जाता है। चेतना पात्र को खाली करती है, साधना पात्र को साफ करती है।

जिसे हम साधना कह रहे हैं वह एक अवसर है अपनी ऊर्जा को बढ़ाने का ताकि आप अपनी सीमाओं और सभी खामियों पर नियंत्रण रख सकें जिनके कारण आप अपने विचारों और भावनाओं में उलझ गए हैं।
जब आप इन दोनों पहलुओं का अपने जीवन में पालन करते हैं, जब दीर्घकाल तक चेतना और साधना का पालन एवं अभ्यास करते हैं, तो आपका यह पात्र खाली हो जाता है। जब आपके जीवन में यह खालीपन, रिक्तता, यह शून्यता घटित होती है, केवल तभी आप पर कृपा अवतरित होती है। वास्तव में कृपा के बिना कोई कहीं भी नहीं पहुँचता। अगर आप कृपा का अनुभव करना चाहते हैं, तो आपको रिक्त होना होगा, आपको अपने पात्र को पूरी तरह खाली करना होगा। अगर आप एक गुरु के साथ रह कर केवल उसके शब्दों का संग्रह कर रहे हैं, तो आपका जीवन उस चींटी से ज़्यादा निरर्थक है जो शीत ऋतु या वर्षा ऋतु के लिए भोजन का संग्रह करती है।

बिना कृपा बहुत प्रतीक्षा करनी होगी

अगर आप कृपा का अनुभव नहीं करते, खुद को कृपा ग्रहण करने योग्य नहीं बनाते, कृपा को धारण करने के लिए खुद को रिक्त नहीं करते तो समझ लीजिए कि आपको कई जन्मों तक आध्यात्मिक पथ पर चलना पड़ेगा।

आपके अन्दर यही मानसिकता घर कर गई है कि जहाँ भी जाओ वहाँ उतना संग्रह कर लो जितना कर सकते हो।
लेकिन अगर आपने कृपा प्राप्त करने के लिए स्वयं को पर्याप्त रूप से रिक्त कर लिया है तो आपकी परम प्रकृति बहुत दूर नहीं है।यहीं पर उसका अनुभव करना है, यहीं पर उसका साक्षात्कार करना है। अस्तित्व के सभी आयामों से पार जाने पर हम परमानन्द अवस्था में प्रवेश करते हैं। यह आने वाले कल या किसी अन्य जन्म की बात नहीं है। यह एक जीवंत वास्तविकता है।

संग्रह करने की मानसिकता अंदर बैठ गयी है

आपके अन्दर यही मानसिकता घर कर गई है कि जहाँ भी जाओ वहाँ उतना संग्रह कर लो जितना कर सकते हो। मूल रूप से आपकी शिक्षा ही इसके लिए दोषी है। शिक्षा ने आपको यह सिखाया कि कैसे ज़्यादा से ज़्यादा चीज़ों का संग्रह किया जाए।

लेकिन यह संग्रह – चाहे आपने कितना भी संचय क्यों न किया हो, मायने नहीं रखता।
आपको अधिक से अधिक सुनियोजित तौर-तरीके सिखाये ताकि आप उतना संग्रह कर सकें जितना कि संभव हो। इस संग्रह से आप अपनी जीविका कमा सकते हैं। इस संग्रह से संभवतः आप अपने आस-पास के भौतिक जीवन की गुणवत्ता को कुछ हद तक बढ़ा सकते हैं।

आध्यात्मिक ज्ञान के संग्रह की नहीं साधना की जरूरत है

लेकिन यह संग्रह – चाहे आपने कितना भी संचय क्यों न किया हो, मायने नहीं रखता। जो कुछ भी आपने अपने मन में एकत्रित कर रखा है, वह चाहे स्थानीय बकवास हो या वैज्ञानिक जानकारी हो या तथाकथित आध्यात्मिक ज्ञान हो, वह आपको मुक्त नहीं कर सकेगा। जहाँ आप अभी हैं, वहाँ से एक कदम भी आपकी परम प्रकृति की ओर ले जाने में असक्षम होगा। आपको अपने जीवन में आवश्यक चेतना को लाने के लिए साधना और आंतरिक कार्य की ज़रूरत होगी। सचमुच इसका कोई विकल्प नहीं है।

खुद को खो देना होगा

अगर आप छलांग लगाना चाहते हैं, रेखा को लांघना चाहते हैं और चेतना को कायम रखने के संघर्ष से बचना चाहते हैं तो आपको निश्छल होना होगा। आपको इतना निश्छल होना होगा कि आप सहजतापूर्वक खुद को पूर्ण रूप से समर्पित कर सकें।

यह कोई ऐसा काम़ नहीं है जिसे आप कर सकें। आपको तो बस यह स्वीकृति देनी है ताकि यह स्वतः घटित हो सके।
समर्पण कोई ऐसा कार्य नहीं है जो आपको करना है, समर्पण वह चीज़ है जो स्वतः तब होता है जब आप नहीं होते हैं। जब आप अपनी सारी इच्छाओं को खो देते हैं, जब आपकी अपनी कोई इच्छा नहीं रह जाती, जब आप इसके लिए पूर्णतः तैयार हो जाते हैं कि आपके अंदर ऐसा कुछ भी नहीं है जिसे आप अपना कह सकें तब यही वह समय है जब आप पर कृपा अवतरित होगी।

साधना और चेतना : आप केवल अनुकूल परिस्थिति बना सकते हैं

लेकिन मैं हमेशा इस बात पर ज़ोर दूँगा कि आप चेतना और साधना के मार्ग पर लगे रहिए। अगर आप सहजतापूर्वक इस रेखा को पार करते हैं तो यह अद्भुत है लेकिन अगर आप लांघने का प्रयास करते हैं, तो आप देखेंगे कि आप खुद को धोखा दे रहे हैं। क्योंकि ऐसे रेखा को पार किया ही नहीं जा सकता। यह केवल अपने आप ही हो सकता है। कोई भी योग्यता ऐसा नहीं करवा सकती।

हम जिस प्रकार सोच और महसूस कर रहे हैं उससे केवल निरन्तर बंधन का जाल निर्मित किए जा रहे हैं।
अगर आप अपनी सभी क्षमताओं और अक्षमताओं को, सभी पसंदों-नापसंदों को, और बढ़कर, सभी निरर्थक बातों और तत्वों को, जिन्होंने आपको यह सोचने के लिए बाध्य किया है कि ‘दरअसल यही मैं हूँ’, त्यागने के लिए तैयार हैं, अगर आप उन सभी तत्वों को छोड़ने के लिए तैयार हैं जो आपके सीमित अस्तित्व को सहारा देते हैं, तो केवल तभी आप पर कृपा अवतरित होगी। यह कोई ऐसा काम़ नहीं है जिसे आप कर सकें। आपको तो बस यह स्वीकृति देनी है ताकि यह स्वतः घटित हो सके। लेकिन चेतना और साधना की प्रक्रिया से आप ऐसी स्थिति की रचना कर सकते हैं जहाँ यह निश्चित रूप से घटित हो सकती है।

क्या है चेतना और साधना?

हम जिस प्रकार सोच और महसूस कर रहे हैं उससे केवल निरन्तर बंधन का जाल निर्मित किए जा रहे हैं। वे सारी बातें जिन्हें आप सोचते और महसूस करते हैं तथा स्वयं के बीच जब एक दूरी बनाने लगते हैं तो इसे ही हम चेतना कहते हैं। जिसे हम साधना कह रहे हैं वह एक अवसर है अपनी ऊर्जा को बढ़ाने का ताकि आप अपनी सीमाओं और सभी खामियों पर नियंत्रण रख सकें जिनके कारण आप अपने विचारों और भावनाओं में उलझ गए हैं।


संबन्धित पोस्ट


Type in below box in English and press Convert