विश्व पर्यावरण दिवस पर देखें प्रोजेक्‍ट ग्रीन हैंड्स की झांकियां

"विश्व पर्यावरण दिवस पर देखें प्रोजेक्‍ट ग्रीन हैंड्स की झांकियां " 'प्रोजेक्‍ट ग्रीन हैंड्स' (पी.जी.एच.) ईशा संस्थान का एक पर्यावरण संबंधी उपक्रम है। पी.जी.एच. पर्यावरण की हानि को रोकने तथा पर्यावरण को स्वच्छ बनाने की दिशा में कार्य करता है; ताकि इस ग्रह पर एक स्थायी जीवन बना रहे। पी.जी.एच. की शुरुआत 2004 में हुई थी, और 2006 में एक ही दिन में साढ़े आठ लाख से ज्यादा पौधे लगाकर यह प्रोजेक्ट गिनीज़ विश्व रिकॉर्ड प्राप्त कर चुका है। पी.जी.एच. को वृक्षारोपण के लिए 2008 के इंदिरा गांधी पर्यावरण का पुरस्कार से नवाजा गया। अब तक पी.जी.एच. द्वारा लगभग दो करोड़ पेड़ लगाये जा चुके हैं। पी.जी.एच. का लक्ष्य - दक्षिण भारत के तमिल नाडु राज्य में 10 प्रतिशत अतिरिक्त वृक्ष-आवरण क्षेत्रफल को बढ़ाना। विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर पी.जी.एच. ने कई कार्यक्रम द्वारा लोगों में जागरूकता बढाई। देखते हैं इनकी झलकीयां -- वेल्लिंगिरी पहाड़ों पर पर्यावरण जागरूकता अभियान--स्वयंसेवियों ने सफाई का उत्तरदायित्व उठाया।
कोयंबटूर शहर में पर्यावरण जागरूकता अभयान का समापन समारोह - जिसके अंतर्गत मुख्य अतिथियों ने वेल्लिंगिरी पहाड़ो के सफाई अभ्यान के स्वयंसेवियों का आभार प्रकट किया। स्वयंसेवियों ने साउंड्स ऑफ़ ईशा के मनमोहक संगीत का खूब आनंद लिया।
शहरों में पर्यावरण के प्रति जागरूकता बढ़ाने के लिए पी.जी.एच. ने चेन्नई में साइकिल रैली का आयोजन किया, जिसमें अनेक छात्र और कॉर्पोरेट वर्ग के लोग सम्मिलित हुए। उनका जोश देखने लायक था।
छात्राओं को पर्यावरण के प्रति जागरूक करते हुए पी.जी.एच. के स्वयंसेवी द्वारा संवाद और पौधों का वितरण- एस.डी.एच. जैन विद्यालय, मदुरई में-
पर्यावरण के प्रति जागरूकता फैलाने के अंतर्गत 'सौराष्ट्र बॉयज उच्च माध्यमिक विद्यालय, मदुरई ' के नन्हे बालकों को पौधें भेंट किये गए। बालकों में पौधों के प्रति उत्साह देखा गया।
पी.जी.एच. द्वारा आयोजित अभयान के अंतर्गत पर्यावरण जागरूकता पर संवाद एवं वृक्षारोपण पांडिचेरी में -
ईशा योग केंद्र में विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर पी.जी.एच. ने विभिन्न आयोजन किये। पर्यावरण के प्रति जागरूकता लाने वाली प्रतियोगिताएँ और पौधों के वितरण जैसी गतिविधियां आयोजन के मुख्‍य आकर्षण रही।
रात में ईशा योग केंद्र में पर्यावरण से सम्बंधित विषयों पर नाटक प्रस्तुत किये गए। नाटकों के द्वारा पर्यावरण के लिए जागरूक होने का सन्देश दर्शकों को दिया गया। फेंक दिए जाने वाली वस्तुओं का सुन्दर उपयोग भी दर्शाया गया। कविता प्रतियोगिता के अंतर्गत टीमों ने भावपूर्ण कविताएँ प्रस्तुत की। इसके बाद प्रतियोगिताओं के विजेताओं की घोषणा की गई। फिर पी.जी.एच. के प्रक्षेपण का वीडीओ दर्शकों को दिखाया गया। आयोजन के अंत में सद्गुरु का पर्यावरण पर सन्देश वीडियो के माध्यम से दर्शकों तक पहुँचाया गया।

पाठाकों से अनुरोध है कि आप सभी ईशा फाउंडेशन के प्रोजेक्ट ग्रीन हैंड्स द्वारा चलाये जा रहे अभियान में हिस्सा लें और अधिक से अधिक लोगों को इसमें हिस्सा लेने के लिए प्रेरित करें।

पी.जी.एच. आपके पेड़ों का रोपण और पोषण करती है, इसके जरिये आप अपने पेड़ के वास्तविक स्थान की जानकारी पा सकते हैं और उस किसान का नाम भी जान सकते हैं जिसने आपका पेड़ लगाया है।

100 रुपये प्रति पेड़ दान कीजिए और अपने पेड़ को बढ़ता देखिए। (इसमें शामिल है रोपण, उसके बाद देख रेख तथा पुन:रोपण- 2 साल तक, जब तक कि आपके पेड़  आत्मनिर्भर न हो जायें)

पेड़ लगाने के लिए देखें: www/giveisha.org/pgh 

अधिक जानकारी के लिए जायें   www.projectgreenhands.org  पर


संबन्धित पोस्ट


Type in below box in English and press Convert