इस अनुभव ने बदल दिया मेरा न‍जरिया
 
 

हाल ही में प्रिंस हेयरकटिंग सैलून, नोएडा के नाई, पवन ने, ‘सभी के लिए योग’ कार्यक्रम में हिस्‍सा लिया। आइए जानते हैं उनका अनुभव।

मैं हेयरड्रेसरों (नाई) के परिवार से ताल्लुक रखता हूं। पिछले सप्ताह, मैंने दिल्ली में अपने दो भाइयों और भतीजों के साथ ‘सभी के लिए योग’ कार्यक्रम में भाग लिया। यह मेरा पहला योग कार्यक्रम था। इस कार्यक्रम में हुए अनुभव के बाद, मैं बिना किसी संदेह के कह सकता हूं कि यह अब तक मेरे जीवन में होने वाली सबसे अच्छी चीज थी।

yoga-for-all-3

हम कार्यक्रम स्थल पर पहुंचे। वहां गर्मजोशी से हमारा स्वागत हुआ जिसके बाद हमें एक खेल के मैदान में ले जाया गया। हमने डॉज-बॉल खेलना शुरू किया। मेरे बाईं ओर एक कैब ड्राइवर मोहम्मद और मेरे दाहिने ओर महान क्रिकेट खिलाड़ी वीरेंद्र सहवाग थे!

मेरे बाईं ओर एक कैब ड्राइवर मोहम्मद और मेरे दाहिने ओर महान क्रिकेट खिलाड़ी वीरेंद्र सहवाग थे!
वहां जितने अलग-अलग तरह के लोग एक साथ जमा हुए थे, यह देखकर मुझे बहुत हैरानी हुई। हमारे देश में स्टार के प्रति बहुत आकर्षण है और किसी स्टार को देखते ही हम उसके ऊपर कूद पड़ते हैं। मगर यहां मैं हर किसी के साथ एक समान भाव देख और महसूस कर सकता था। उन लोगों के साथ भी, जिन पर मैं अपने रोजमर्रा के जीवन में ध्यान नहीं देता हूं। मैंने एक सेलेब्रिटी, एक चौकीदार, एक लावारिस बच्चे, एक ड्राइवर, एक इलेक्ट्रिशियन, एक कारोबारी और एक इंजीनियर को एक भाव से देखा। मैंने पहले कभी इतने अलग-अलग तरह के लोगों को एक साथ एक ही जगह खेलते और कुछ सीखते नहीं देखा।

कभी-कभी सिर्फ अपने काम को बढ़ाने के लिए, हम अपने संपन्न ग्राहकों के साथ कुछ ज्यादा मीठा व्यवहार करते हैं और सोचते हैं कि हम आर्थिक रूप से कमजोर लोगों पर एहसान कर रहे हैं। मगर इस ‘सभी के लिए योग’ कार्यक्रम ने मेरे इस नजरिये को बदल दिया है।

yoga-for-all-6

यहां हर धार्मिक पृष्ठभूमि के लोग – हिंदू, मुसलमान, सिख, ईसाई – और हर आर्थिक स्थिति के लोग मौजूद थे। उन सब के साथ दो घंटे बिताना और योग अभ्यास सीखना मेरे जीवन का एक महत्वपूर्ण मोड़ था।

yoga-for-all-1

 

मैं सद्‌गुरु जी और ईशा फाउंडेशन का आभारी और शुक्रगुजार हूं कि उन्होंने अपने देश की विविधता की खूबसूरती का अनुभव करने में मेरी मदद की, जिसका अनुभव मैंने पहले कभी नहीं किया था।

पवन,

हेयरड्रेसर

प्रिंस हेयरकटिंग सैलून, नोएडा।

 
 
 
 
  0 Comments
 
 
Login / to join the conversation1