User
Login | Sign Up
in

About

Sadhguru Exclusive
  • Shop
search
LoginSignup
  • Volunteer
  • Donate
  • Shop
  • Sadhguru Exclusive
  • About
in
Also in:
English
ಕನ್ನಡ

भैरवी साधना

एक दिव्य आयाम की खोज करें

दीक्षा और समापन ऑनलाइन आयोजित किए जाएंगे।

28 दिसंबर 2021 को दीक्षा

Registration Closed

भैरवी साधना

एक दिव्य आयाम की खोज करें

दीक्षा और समापन ऑनलाइन आयोजित किए जाएंगे।

28 दिसंबर 2021 को दीक्षा

Registration Closed

kolam-blue
जब आप खुद को खाली कर देते हैं, तब देवी के पास आपकी मदद करने के अलावा कोई चारा नहीं रहता। और, अगर देवी आपके साथ हैं, तो मेरे पास भी कोई चारा नहीं है (सिवाय इसके कि मैं भी आपका साथ दूं)। - सद्‌गुरु

भैरवी साधना, अपने अंदर भक्ति जागृत करने का एक अवसर है।

इस साधना की शुरुआत, उत्तरायण के शुरूआती दिनों के दौरान होती है, जब धरती से देखने पर सूर्य आकाश में उत्तर की ओर जाता दिखाई देता है। यह समय आध्यात्मिक ग्रहणशीलता के लिए मददगार होता है।

महिलाओं और पुरुषों दोनों के लिए दीक्षा एक ही दिन है। हालांकि, महिलाओं के लिए, यह साधना तईपूसम और पुरुषों के लिए तई अमावस्या पर समाप्त होती है।

महिलाओं के लिए समापन: 18 जनवरी 2022

पुरुषों के लिए समापन: 31 जनवरी 2022

भैरवी साधना क्यों?

किसी व्यक्ति की आकांक्षा चाहे जो भी हो - स्वास्थ्य, धन, ज्ञान या आत्मज्ञान - देवी इन सभी चीज़ों की और कई दूसरी चीज़ों की परम दाता हैं।

  • यह हमारी ग्रहणशीलता को बढ़ाने के लिए एक गहन प्रक्रिया है

  • विशेष साधनाओं, अनुशासन और अर्पण के माध्यम से देवी की कृपा प्राप्त करें

  • अपने घर में आराम से बैठकर ऑनलाइन दीक्षा और समापन

हिस्सा लेने के लिए:

चरण 1: इस साधना के लिए रजिस्टर करें।

चरण 2: दीक्षा के दिन से पहले दीक्षा ओरिएंटेशन वीडियो देखें। (रजिस्ट्रेशन करने के बाद यह आपको ईमेल द्वारा भेजा जाएगा।)

चरण 3: 28 दिसंबर 2021 को ऑनलाइन दीक्षा सत्र में भाग लें। (शामिल होने का समय और वेब लिंक आपको ईमेल के माध्यम से भेजा जाएगा।)

चरण 4: जो अवधि आपको बताई जाती है, उतने समय तक दिशा-निर्देशों के अनुसार साधना करें।

चरण 5: समापन के दिन से पहले समापन ओरिएंटेशन वीडियो देखें। (रजिस्टर करने के बाद यह आपको ईमेल द्वारा भेजा जाएगा।)

चरण 6: 18 जनवरी (महिलाएं), 31 जनवरी (पुरुष) को ऑनलाइन समापन सत्र में भाग लें।

आपकी साधना के लिए ज़रूरी वस्तुएँ:

भैरवी साधना किट (ईशा लाइफ पर ऑर्डर करें) में ये चीज़ें शामिल होंगी:

  • देवी फोटो

  • अभय सूत्र

  • कुमकुम

  • देवी स्तुति

आपको देवी पेंडेंट (मौजूदा या नया) पहनना होगा। अगर आपको यह खरीदना है, तो इसे ईशा लाइफ से खरीदा जा सकता है।

दीपक (तिल का तेल, घी, अरंडी का तेल सबसे अच्छा है, वरना कोई भी दूसरा वनस्पति तेल जो उपलब्ध हो) या मोमबत्ती (अगर बीसवैक्स का इस्तेमाल किया जाए, तो बेहतर होगा)

हर रोज़ अर्पित करने के लिए हरे चने या काले तिल

आप चाहें तो देवी फोटो के नीचे लाल कपड़ा रख सकते हैं। (अगर सूती कपड़े का इस्तेमाल जाए, तो बेहतर होगा)

आपकी साधना के लिए ज़रूरी दूसरी सामग्री:

  • मधु

  • काली मिर्च के दाने

  • कर्पूरवल्ली (मैक्सिकन मिंट/क्यूबन अजवायन)। अगर उपलब्ध नहीं है, तो आप नीम के पत्तों (या नीम पाउडर) का उपयोग कर सकते हैं।

  • सफेद या हल्के रंग के कपड़े

  • अंकुरित हरे चने

  • हर्बल स्नान पाउडर या हरे चने का पाउडर। (आप इसे घर पर कैसे तैयार करें, इसकी जानकारी अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न वाले हिस्से में प्राप्त की जा सकती है।)

दीक्षा के दिन से पहले इन सभी वस्तुओं को तैयार करना ज़रूरी है। इनका उपयोग कैसे करें, इसकी जानकारी दीक्षा के दिन आपके साथ साझा की जाएगी।

साधना अवधि के दौरान पालन करने के लिए दिशानिर्देश:

दीक्षा सत्र के दौरान निर्देश दिए जाएंगे। हालाँकि, साधना के दौरान कुछ ध्यान रखने योग्य बातें नीचे दी गई हैं:

  • हर्बल बाथिंग पाउडर से दिन में दो बार नहाना (रासायनिक उत्पादों का इस्तेमाल न करें)

  • धूम्रपान न करें

  • शराब का सेवन न करें

  • मांसाहारी भोजन न करें

  • एक दिन में केवल 2 भोजन। पहला भोजन दोपहर 12 बजे के बाद करें।

  • सफेद या हल्के रंग के वस्त्र ही पहनें।

अधिक जानकारी के लिए:

सम्पर्क की जानकारी

और अधिक जानकारी पाने के लिए, या कोई भी प्रश्न पूछने के लिए, कृपया हमसे संपर्क करें:

ईमेल: bhairavi.sadhana@lingabhairavi.org

फोन: +91-83000 83111

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

अनुभव

पिछले दो सालों से मैं ये प्रक्रिया कर रही हूँ, और इसे करते समय मैं खुद को हर बार देवी की कृपा से सराबोर पाती हूँ। इस साधना की वजह से मैं लोगों को भी अपना एक हिस्सा मानने लगी हूँ और मुझमें अपनी सीमाएं तोड़ने का दृढ़ संकल्प पैदा हो रहा है। मैं सद्‌गुरु की बहुत कृतज्ञ हूँ कि उन्होंने हमें ये ज़बरदस्त अनुभव भेंट किया है।

- जयश्री शंकर, निर्देशक, सुब्रमनी ग्रुप ऑफ़ कम्पनीज़, तूतीकोरिन
 
Close