शिवांग

सद्‌गुरु वेल्लियिन्गिरी पहाड़ियों का महत्व बता रहे हैं, जिसे ‘दक्षिण का कैलाश’ कहा जाता है।
 
 
 
 

शिवांग का शाब्दिक अर्थ है, ‘शिव का अंग’, यह एक 42-दिवसीय साधना है। इस प्रक्रिया में शिव नमस्कार की दीक्षा के साथ-साथ, वेल्लियिन्गिरी पर्वत की तीर्थयात्रा भी शामिल है। अधिक जानकारी के लिए इस वेबसाइट पर संपर्क करें: Shivanga.org