<iframe src="//www.googletagmanager.com/ns.html?id=GTM-5FMTNS" height="0" width="0" style="display:none;visibility:hidden">

यमुना


नदी की लंबाई:

1376 किमी

नदी घाटी क्षेत्र:

366,223 स्क्वायर किमी

नदी घाटी में आबादी:

12.8 करोड़ (2001)

नदी घाटी में पड़ने वाले राज्य:

उत्तराखंड, हरियाणा, दिल्ली, उत्तर प्रदेश

जल का इस्तेमाल करने वाले प्रमुख शहर:

नई दिल्ली (आबादी: 1.9 करोड़), आगरा (आबादी: 10 लाख), इलाहाबाद (आबादी 10 लाख), मथुरा (आबादी: 349,336)

नदी को हानि

  • जल की मात्रा में कमी : 60% (वर्ल्ड बैंक की रिपोर्ट से आकलन)
  • शुष्क मौसम में सूखे का खतरा : कम-मध्यम
  • बारिश के मौसम में बाढ़ का खतरा : अधिक
  • पेड़ों की संख्या में कमी: 11% (1985-2005)
  • हर मौसम में जल स्तर की भिन्नता : बहुत अधिक

आर्थिक और पर्यावरण संबंधी महत्व

  • यमुना गंगा के साथ मिलकर काफी उर्वर यमुना-गंगा दोआब क्षेत्र बनाती है।
  • इस नदी से लगभग 270 लाख लीटर पानी रोजाना निकाला जाता है। इस नदी से दिल्ली की 70 फीसदी से अधिक जलापूर्ति होती है।
  • इससे 60 करोड़ हेक्टेयर कृषि भूमि की सिंचाई होती है और इससे 400 मेगावाट जलविद्युत तैयार होती है।

आध्यात्मिक और सांस्कृतिक महत्व

यह नदी कृष्ण के बचपन से अंतरंग रूप से संबंधित है।
पांडवों की राजधानी इंद्रप्रस्थ यमुना के तट पर स्थित थी। इसे आज दिल्ली का आधुनिक शहर माना जाता है।

यमुना प्रयाग में गंगा से मिलती है, जो भारतीयों के लिए सबसे महत्वपूर्ण स्थानों में से एक है। यहां हर बारह साल पर होने वाला कुंभ मेला आयोजित होता है।
यमुना का स्रोत यमुनोत्री छोटा चारधाम का एक तीर्थस्थान है। दूसरे तीन तीर्थ हैं, गंगोत्री, केदारनाथ और बद्रीनाथ।

References and Credit

#RallyForRivers

View All
    View All
    x