महाशिवरात्रि में भाग लें

ईशा योग केंद्र में महाशिवरात्रि कई वर्षों से भव्य और उल्लासमय तरीके से मनाई जाती रही है। संगीत, नृत्य और सद्‌गुरु के द्वारा कराई जाने वाली शक्तिशाली ध्यान प्रक्रियाओं से भरपूर ये उत्सव हर साल लाखों लोगों को आकर्षित करता है। ये उत्सव वेब स्ट्रीम के माध्यम से, और हमारे मीडिया पार्टनर्स द्वारा टीवी चैनलों पर भी सीधा प्रसारित किया जाता है। ईशा योग केंद्र में आने वाले भक्तगणों की तुलना में, सीधे प्रसारण के माध्यम से हमारे साथ कहीं ज्यादा लोग जुड़ते हैं।

महाशिवरात्रि

04 मार्च, 2019: 6 बजे सायं – रात भर

detail-seperator-icon

महाशिवरात्रि के लिए रजिस्ट्रेशन

ईशा योग केंद्र में महाशिवरात्रि महोत्सव में हिस्सा लेने के लिए

अभी रजिस्टर करें
आप सबका स्वागत है

सामान्य जानकारी और रजिस्ट्रेशन:
फ़ोन: 83000 83111
ईमेल: info@mahashivarathri.org

detail-seperator-icon

महाशिवरात्रि ऑनलाइन वेबस्ट्रीम:

इन्टरनेट पर सीधे प्रसारण की अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

detail-seperator-icon

महाशिवरात्रि पारंपरिक योग कार्यशाला:

पारंपरिक तौर पर, महाशिवरात्रि के आस-पास का समय अपने योग अभ्यासों को ऊंचा उठाने और गहरा बनाने के लिए शुभ समय माना जाता है। महाशिवरात्रि पारंपरिक योग कार्यशाला, महाशिवरात्रि के दौरान एक विशेष योग कार्यक्रम में हिस्सा लेने और ईशा योग केंद्र की प्राण-प्रतिष्ठित वातावरण में रहने का अवसर प्रदान करती है।

1-5 मार्च, 2019
ईशा योग केंद्र में 5 दिवसीय आवासीय कार्यक्रम

detail-seperator-icon

पूरे भारत में सीधा प्रसारण:

Hindi
Aastha
6pm to 6am
Colors
1:30am to 6am
Tata sky Gurus
Rishtey
11.30pm to 6am
&tv
12am to 6am
ABP live
11.30pm to 6am
Zee Hindustan
11pm to 6am
ABP News
11.30pm to 6am
Zee Madhya Pradesh Chhatisgarh
News 18 Punjab Haryana Himachal Pradesh
11:30pm to 6am
News18 MP Chhatisgarh
11.30pm to 6am
Tamil
Polimer
Puthiyathalaimurai
News 18 Tamil
News 7
Zee Tamil
News J
Colors Tamil
Puthuyugam
Maalai Murasu
Vaanavil
Vendhar
Peppers
Cauvery
Thanthi Tv
  • Assamese

    • Rang
      12 am to 6am
      Northeast live
      10pm to 6am
      News Live
      12 am to 6am
      News18 Assam North East
  • Bangali

    • Akash Aath
      10pm to 6am
      hathway
      6pm to 6am
      Divine
      6pm to 6 am
      Colors Bangla
      10pm to 6am
      ABP Ananda
      11pm – 6am
      News18 Bangla
  • Gujarati

    • Zee 24 Kalak
      12am to 6am
      Katha
      6pm to 6am
      Sandesh
      10pm to 6am
      News18 Gujarati
      11:30pm to 6am
  • kannada

    • Suvarna news
      Btv
      Digvijay
      10.30 pm to 6am
      Colors Movies Kannada
      6pm to 6am
      TV5
      News 18
      Kasturi News
      Kasturi
  • Malayalam

    • Kaumudy
      6pm to 6am
      Zee Keralam
      12 am to 6am
      Matrubhumi
      12 am to 6am
      News 18 Kerala
  • Marathi

    • Star Pravah
      11.30pm to 6am
      Zee Marathi
      12:00am to 6am
      ABP Majha
      11.30pm to 6am
  • Oriya

    • MBC
      11.30pm to 6am
      Kanak news
      11:00pm to 6am
      Colors Oriya
      6.30pm to 6am

      12:00am to 6am
      Radio Choklate
      11:30pm to 6am
      News 18 Orisa
      11:30pm – 6am
  • Telugu

    • Maa Music
      8pm to 6am
      etv
      10.30pm to 5.30am
      etvlife
      6pm to 6am
      hindudharma
      6pm to 6am
      Zee Telugu
      12 am to 6am
      Ntv
      V6
      Bhakti
      ABN
      Sakshi TV
      11 pm to 2 am
      tv5
      AP24*7
  • Streaming Partners

    • Dinamalar
      Jio TV
      6pm to 6am
      Zee 5
      6pm to 6am
      Voot
      6pm to 6am

      6pm to 6am
      VR DEVOTEE
      6pm to 6am
      asianetnews.com
      6pm to 6am
      Her Zindagi
      6pm to 6am
      Idream
      6pm to 6am
      Indsamachar
      6pm to 6am

      6pm to 6am
      MYNATION
      6pm to 6am
  • International

    • India.com (US)
      6pm to 6am
      Azerbaijan public Tv
      6pm to 6am
      Bhakti Darshan (Nepal)
      6pm to 6am
detail-seperator-icon

महाशिवरात्रि स्वयंसेवी बनें:

सद्‌गुरु ने अनुसार ईशा में महाशिवरात्रि एक शानदार तरीके से आदियोगी को एक भेंट के रूप में मनाई जानी चाहिए।

इस उत्सव में दुनिया भर से लाखों लोगों के आने की संभावना है। इतने बड़े उत्सव को सुंदर तरीके से मनाने के लिए अभी से आश्रम में बड़े स्तर पर तैयारियां शुरू हो चुकी हैं।

इस उत्सव के स्तर को देखते हुए, हमें हज़ारों स्वयंसेवियों की आवश्यकता होगी जो महाशिवरात्रि से कुछ दिन पहले पहुँच कर महाशिवरात्रि की तैयारियों में मदद कर सकें।
आप ईशा योग केंद्र में जल्द से जल्द या महाशिवरात्रि से कम से कम एक हफ्ते पहले स्वयंसेवा करने के लिए आ सकते हैं ।

div class=”accordion”>

सत्संग

महाशिवरात्रि का त्यौहार ईशा योग केंद्र में खूब धूमधाम और उत्साह से मनाया जाता है। देश-विदेश से लाखों लोग रात भर चलने वाले इस अनूठे समारोह और सत्संग में सद्गुरु के साथ शामिल होते हैं।

ध्यान

उल्लासमय और रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के बीच रात भर सद्गुरु शक्तिशाली ध्यान प्रक्रियाएं करवाते हैं।

detail-seperator-icon

मध्यरात्रि ध्यान

मध्य रात्रि में सद्गुरु विशाल जनसमूह को बहुत शक्तिशाली ध्यान प्रक्रिया में दीक्षित करते हैं, जो इस रात का सबसे बड़ा आकर्षण होता है।

एक शक्तिशाली मन्त्र का उच्चारण

एक सरल सा मन्त्र, एक आत्म-ज्ञानी गुरु के सानिध्य में एक शक्तिशाली प्रक्रिया बन जाता है। इस महाशिवरात्रि, हमसे लाइव वेब स्ट्रीम के माध्यम से जुड़ें और सद्गुरु द्वारा निर्देशों सहित संचालित, इस मंत्र के उच्चारण में हिस्सा लें। ज्यादा जानकारी

detail-seperator-icon

महाशिवरात्रि की तैयारी करें – महाशिवरात्रि साधना

महाशिवरात्रि साधना महाशिवरात्रि की रात के लिए खुद को तैयार करने के लिए है। ये रात जबरदस्त संभावनाओं से भरी रात है। कोई भी व्यक्ति जिसकी उम्र आठ साल से ज्यादा है, ये साधना कर सकता है। ज्यादा जानकारी

detail-seperator-icon

घर पर महाशिवरात्रि

महाशिवरात्रि की रात मनुष्य शरीर में ऊर्जा प्राकृतिक रूप से ऊपर की ओर चढ़ती है। इस वजह से आप कुछ विशेष साधनाएं कर सकते हैं, जो कि आम तौर पर उन लोगों के लिए सही नहीं होगी, जिन्होंने जरुरी तैयारी नहीं की है। जैसा कि अधिकतर लोगों को पता है, हमने हमेशा लोगों को यही सिखाया है कि सामान्य परिस्थितियों में महामंत्र “ऊं नम: शिवाय” का जाप न करें। लेकिन महाशिवरात्रि की रात आप इस साधना को कर सकते हैं और भरपूर लाभ उठा सकते हैं। जो लोग महाशिवरात्रि की रात ईशा योग केंद्र में नहीं आ सकते, वे नीचे दिए गए तरीके से इस रात का लाभ उठा सकते हैं।

  • महाशिवरात्रि का सबसे ज्यादा लाभ उठाने के लिए आपको पूरी रात, बिना नीचे लेटे अपनी रीढ़ सीधी रखनी चाहिए, और जगे और जागरूक रहना चाहिए
  • अपने कमरे को तैयार करने के लिए – आप एक दिया या लिंग ज्योति जला सकते हैं। साथ ही ध्यानलिंग यंत्र या सद्‌गुरु की तस्वीर, फूल और अगरबत्ती रख सकते हैं।
  • आप मंत्र का उच्चारण कर सकते हैं, और भक्तिमय गानों और मन्त्रों को सुन सकते हैं या फिर गा सकते हैं।
  • अगर आप अकेले हों, तो आस-पास टहलना और प्रकृति के संपर्क में रहना अच्छा होगा। अगर आप लोगों के साथ हों, तो जितना हो सके उतना शांत रहना अच्छा होगा।
  • आधी रात की साधना नीचे दी गए तरीकों से की जा सकती है- रात 11:10 बजे से 11:30 बजे तक – सुख प्राणायाम। रात 11:30 बजे से 11:50 बजे – ॐ मंत्र का उच्चारण। रात 11:50 बजे से 12:10 बजे – महामंत्र “ॐ नमः शिवाय” का उच्चारण।
  • अगर आप वेब या टीवी के माध्यम से महाशिवरात्रि उत्सव से जुड़े हैं, तो आप वहां दिए गए ध्यान के निर्देशों का पालन कर सकते हैं।
detail-seperator-icon

महा अन्न्दानम्

“भारत की समृद्ध आध्यात्मिक परंपरा का श्रेय केवल हमारे ऋषि-मुनियों, ज्ञानियों, योगियों और गुरुजनों को ही नहीं जाता, बल्कि उस जनसमुदाय को भी जाता है जिसने इन विभूतियों का पोषण किया। हमारी परंपरा में, साधु-महात्माओं और साधकों की सेवा का बड़ा महत्व रहा है। दरअसल बहुत से लोगों के लिए तो सेवा का मार्ग ही उनकी साधना रही है। अन्नदान अपने सेवा भाव को प्रकट करने का एक बहुत सुंदर तरीका है।” – सद्गुरु इतिहास लिखे जाने से काफी पहले से, पूरी दुनिया के लोगों ने भोजन और जीवन के बीच के गहरे सम्बन्ध को पहचाना है। संस्कृत भाषा के शब्द अन्नदानम् का अर्थ है – अन्न या भोजन को बाँटना। भारतीय संस्कृति में, भोजन बांटने को हमेशा से ही एक पवित्र कर्म माना गया है। भारतीय उपमहाद्वीप के सभी समुदायों में, कोई भी उत्सव या समारोह, पूजा के अन्नदान या प्रसाद के वितरण के बिना पूरा नहीं होता। हम अपने पूर्वजों को, देवों को, संन्यासियों को, बड़ों को, तीर्थ-यात्रियों को, और साथ ही घर वालों को, दोस्तों, अतिथियों को, और ऐसे व्यक्तियों और जानवरों को को जो भूखे हों – भोजन भेंट करते हैं। इस सार्वभौमिक परंपरा की वजह से, सदियों से योगी, संत और महात्मा, उपमहाद्वीप के एक हिस्से से दूसरे हिस्से तक सफर करके, आध्यात्मिक विज्ञान को पूरे उपमहाद्वीप में फैलाते रहे हैं। महाशिवरात्रि की रात चलने वाले उत्सवों में, ईशा योग केंद्र आए लाखों भक्तों को अन्नदान भेंट किया जाता है। ईशा योग केंद्र आपको इस अन्नदान के लिए सहयोग करने का अवसर देती है।

हर दान महत्वपूर्ण है! अभी दान करें!