महाशिवरात्रि में भाग लें

ईशा योग केंद्र में महाशिवरात्रि कई वर्षों से भव्य और उल्लासमय तरीके से मनाई जाती रही है। संगीत, नृत्य और सद्‌गुरु के द्वारा कराई जाने वाली शक्तिशाली ध्यान प्रक्रियाओं से भरपूर ये उत्सव हर साल लाखों लोगों को आकर्षित करता है। ये उत्सव वेब स्ट्रीम के माध्यम से, और हमारे मीडिया पार्टनर्स द्वारा टीवी चैनलों पर भी सीधा प्रसारित किया जाता है। ईशा योग केंद्र में आने वाले भक्तगणों की तुलना में, सीधे प्रसारण के माध्यम से हमारे साथ कहीं ज्यादा लोग जुड़ते हैं।

महाशिवरात्रि

मार्च 1, 2022 : 6 बजे सायं – रात भर

detail-seperator-icon

महाशिवरात्रि के लिए रजिस्ट्रेशन

ईशा योग केंद्र में महाशिवरात्रि महोत्सव में हिस्सा लेने के लिए

Register Now
आप सबका स्वागत है
 

सामान्य जानकारी और रजिस्ट्रेशन:
फ़ोन: 83000 83111
ईमेल: info@mahashivarathri.org

detail-seperator-icon

महाशिवरात्रि ऑनलाइन वेबस्ट्रीम:

इन्टरनेट पर सीधे प्रसारण की अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

detail-seperator-icon

सत्संग

महाशिवरात्रि का त्यौहार ईशा योग केंद्र में खूब धूमधाम और उत्साह से मनाया जाता है। देश-विदेश से लाखों लोग रात भर चलने वाले इस अनूठे समारोह और सत्संग में सद्गुरु के साथ शामिल होते हैं।

ध्यान

उल्लासमय और रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के बीच रात भर सद्गुरु शक्तिशाली ध्यान प्रक्रियाएं करवाते हैं।

detail-seperator-icon

मध्यरात्रि ध्यान

मध्य रात्रि में सद्गुरु विशाल जनसमूह को बहुत शक्तिशाली ध्यान प्रक्रिया में दीक्षित करते हैं, जो इस रात का सबसे बड़ा आकर्षण होता है।

एक शक्तिशाली मन्त्र का उच्चारण

एक सरल सा मन्त्र, एक आत्म-ज्ञानी गुरु के सानिध्य में एक शक्तिशाली प्रक्रिया बन जाता है। इस महाशिवरात्रि, हमसे लाइव वेब स्ट्रीम के माध्यम से जुड़ें और सद्गुरु द्वारा निर्देशों सहित संचालित, इस मंत्र के उच्चारण में हिस्सा लें। ज्यादा जानकारी

detail-seperator-icon

महाशिवरात्रि की तैयारी करें – महाशिवरात्रि साधना

महाशिवरात्रि साधना महाशिवरात्रि की रात के लिए खुद को तैयार करने के लिए है। ये रात जबरदस्त संभावनाओं से भरी रात है। कोई भी व्यक्ति जिसकी उम्र आठ साल से ज्यादा है, ये साधना कर सकता है। ज्यादा जानकारी

detail-seperator-icon

घर पर महाशिवरात्रि

महाशिवरात्रि की रात मनुष्य शरीर में ऊर्जा प्राकृतिक रूप से ऊपर की ओर चढ़ती है। इस वजह से आप कुछ विशेष साधनाएं कर सकते हैं, जो कि आम तौर पर उन लोगों के लिए सही नहीं होगी, जिन्होंने जरुरी तैयारी नहीं की है। जैसा कि अधिकतर लोगों को पता है, हमने हमेशा लोगों को यही सिखाया है कि सामान्य परिस्थितियों में महामंत्र “ऊं नम: शिवाय” का जाप न करें। लेकिन महाशिवरात्रि की रात आप इस साधना को कर सकते हैं और भरपूर लाभ उठा सकते हैं। जो लोग महाशिवरात्रि की रात ईशा योग केंद्र में नहीं आ सकते, वे नीचे दिए गए तरीके से इस रात का लाभ उठा सकते हैं।

  • महाशिवरात्रि का सबसे ज्यादा लाभ उठाने के लिए आपको पूरी रात, बिना नीचे लेटे अपनी रीढ़ सीधी रखनी चाहिए, और जगे और जागरूक रहना चाहिए
  • अपने कमरे को तैयार करने के लिए – आप एक दिया या लिंग ज्योति जला सकते हैं। साथ ही ध्यानलिंग यंत्र या सद्‌गुरु की तस्वीर, फूल और अगरबत्ती रख सकते हैं।
  • आप मंत्र का उच्चारण कर सकते हैं, और भक्तिमय गानों और मन्त्रों को सुन सकते हैं या फिर गा सकते हैं।
  • अगर आप अकेले हों, तो आस-पास टहलना और प्रकृति के संपर्क में रहना अच्छा होगा। अगर आप लोगों के साथ हों, तो जितना हो सके उतना शांत रहना अच्छा होगा।
  • आधी रात की साधना नीचे दी गए तरीकों से की जा सकती है- रात 11:10 बजे से 11:30 Nadi Shuddhi – सुख प्राणायाम। रात 11:30 बजे से 11:50 बजे – ॐ मंत्र का उच्चारण। रात 11:50 बजे से 12:10 बजे – महामंत्र “ॐ नमः शिवाय” का उच्चारण।
  • अगर आप वेब या टीवी के माध्यम से महाशिवरात्रि उत्सव से जुड़े हैं, तो आप वहां दिए गए ध्यान के निर्देशों का पालन कर सकते हैं।
detail-seperator-icon