चुनौती भरे वक्त में एक भेंट: अपनी ख़ुशी और आंतरिक संतुलन को बढ़ाने का एक साधन। अभी जानें

चुनौती भरे वक्त में एक भेंट: अपनी ख़ुशी और आंतरिक संतुलन को बढ़ाने का एक साधन।
चुनौती भरे वक्त में एक भेंट: अपनी ख़ुशी और आंतरिक संतुलन को बढ़ाने का एक साधन।

थैंक्यू टीचर

#ThankyouTeacher

आपको अपना वह हाई स्कूल शिक्षक/शिक्षिका याद है, जिसने सबसे पहले कैमिस्ट्री या संगीत या गणित के लिए आपको सबसे पहली बार प्रोत्साहित किया? या शायद जब आप घुटनों जितने ऊंचे थे, किसी ने आपको हाथों से उठाकर ऊपर की ओर इशारा करते हुए आपके अंदर खगोल विद्या के लिए प्रेम जगाया?

हममें से बहुत से लोगों को कोई खास शख्स याद होगा जिसने हमारे लिए एक नई दुनिया के द्वार खोले और हमें अंदर ले गए, जिन्होंने हमारे रुझान में कोई संभावना देखी और हमें उसे खोजने के लिए प्रोत्साहित किया। एक गुरु – चाहे वह माता-पिता हों या कोई शिक्षक/शिक्षिका – जिसने अपनी मिसाल से हमें प्रेरित किया, जिसने इतिहास को कहानी में, शब्दों को कविता में और नोट्स को गीत में बदल दिया। क्या आपके जीवन में कोई ऐसे शख्स हैं?

आदियोगी की प्राण-प्रतिष्ठा के अवसर पर, हम आपको उन सभी को धन्यवाद देने के लिए आमंत्रित करते हैं, जिनसे आपने कुछ न कुछ सीखा है, जिन्होंने आपको प्रभावित किया या आपके जीवन के मार्ग को पूरी तरह बदल दिया। किसी वीडियो या संदेश के जरिये उन खास यादों को साझा करें। हम उन्हें संकलित करके सभी शिक्षकों को आभार के तौर पर सोशल मीडिया पर पोस्ट करेंगे।

#ThankyouTeacher योग के प्रथम शिक्षक और योग के विज्ञान के जन्मदाता, प्रथम योगी आदियोगी शिव को एक श्रद्धांजलि है।


#ThankyouTeacher
हैशटैग के साथ अपने शिक्षक को धन्यवाद देते हुए ट्विटर/फेसबुक पर वीडियो/तस्वीर/संदेश अपलोड करें।