शिवांग साधना पुरुषों के लिए

कोरोना प्रतिबंधों के कारण, अब दीक्षा और समापन ऑनलाइन प्रदान किया जा रहा है.
For any queries, please contact us
at info@shivanga.org
शिवांग साधना आपमें यह जागरूकता लाने का एक साधन है कि आप शिव के एक अंग हैं, वे शिव जो सृष्टि का मूल स्रोत और परम संभावना हैं | - सद्गुरु
seperator
 
 
पुरुषों के लिए शिवांग साधना 42 दिनों का एक शक्तिशाली व्रत है। सद्गुरु द्वारा दी गई यह साधना ध्यानलिंग की ऊर्जाओं के लिए एक व्यक्ति की ग्रहणशीलता को बढ़ाती है, और व्यक्ति को शरीर, मन और ऊर्जा के गहरे स्तरों को अनुभव करने का अवसर देती है।
यह साधना अपने भीतर की भक्ति को सामने लाने का एक अवसर है। शिवांग का अर्थ है "शिव का एक अंग", और शिवांग साधना एक अवसर है जिससे हम सृष्टि के स्रोत के साथ अपने संबंध को अपनी जागरूकता में ला सकते हैं। यह साधना पवित्र वेलियंगिरी पर्वत की तीर्थयात्रा करने और शिव नमस्कार, जो एक शक्तिशाली अभ्यास है, में दीक्षित होने का एक अवसर है।
 
Benefits of doing Shivanga Sadhana
 
  • 42 दिनों का एक शक्तिशाली व्रत
  • पवित्र “शिव नमस्कार” प्रक्रिया में दीक्षा
  • "दक्षिण के कैलाश" के रूप में जाने जाने वाले वेलियांगिरी पर्वत की तीर्थयात्रा
  • भीतरी खोज के लिए एक मजबूत शारीरिक और मानसिक आधार प्रदान करता है

 

 
Sadhana Dates
 
यह साधना पुरुषों के लिए उपलब्ध है। यह 42-दिवसीय व्रत पूर्णिमा से शुरू होता है और शिवरात्रि पर समाप्त होता है| इसका समापन ध्यानलिंग को अर्पण और सुंदर वेलियांगिरी पर्वत की चोटियों की यात्रा किए जाने पर होता है।
नोट: दीक्षा और समापन ऑनलाइन आयोजित किए जाएंगे। ध्यानलिंग में समापन और वेल्लिंगिरी पर्वत की यात्रा – ये दोनों वैकल्पिक हैं।
दीक्षा
समापन की तारीख
यात्रा की तारीख
18 नवंबर 2021
1 जनवरी 2022
2 जनवरी 2022
18 दिसंबर 2021
30 जनवरी 2022
31 जनवरी 2022
17 जनवरी 2022
1 मार्च 2022 (महाशिवरात्रि)
 
16 फरवरी 2022
30 मार्च 2022
31 मार्च 2022
17 मार्च 2022 
29 अप्रैल 2022
30 अप्रैल 2022
16 अप्रैल 2022 (चित्रा पूर्णिमा)
28 मई 2022
29 मई 2022
15 मई 2022
27 जून 2022
28 जून 2022
14 जून 2022
26 जुलाई 2022 
27 जुलाई 2022 (आदि अमावस्या)
13 जुलाई 2022 (गुरु पूर्णिमा)
25 अगस्त 2022
26 अगस्त 2022
11 अगस्त 2022
24 सितंबर 2022
25 सितंबर (महालय अमावस्या)
10 सितंबर 2022
23 अक्टूबर 2022
24 अक्टूबर 2022
09 अक्टूबर 2022
22 नवंबर 2022
23 नवंबर 2022
07 नवंबर 2022
21 दिसंबर 2022
22 दिसंबर 2022
07 दिसंबर 2022
20 जनवरी 2023
21 जनवरी 2023

 

पुरुषों के लिए साधना दिशानिर्देश:

अंग्रेजी, हिंदी, मलयालम, कन्नड़, तमिल, और तेलुगु

पुरुषों के लिए साधना दिशानिर्देश:

  • साधना पूर्णिमा (पूर्णिमा के दिन) से शुरू होती है और 42 दिन बाद शिवरात्रि (अमावस्या से एक दिन पहले) पर समाप्त होती है।
  • शिवांगों को शिव नमस्कार अभ्यास और उपयुक्त मंत्रों में दीक्षित किया जाएगा।
  • शिव नमस्कार खाली पेट की स्थिति में दिन में 21 बार, सूर्योदय से पहले या सूर्यास्त के बाद किया जाना चाहिए। इसे पूरी भक्ति के साथ किया जाना चाहिए।
  • शिवरात्रि पर कोयंबटूर में शिवांगों का ध्यानलिंग में आना वैकल्पिक है।
  • शावर / स्नान दिन में दो बार लेना चाहिए। साबुन के बजाय हर्बल स्नान पाउडर (स्नानमपोडी) का उपयोग किया जा सकता है।
  • भिक्षा कम से कम 21 लोगों से प्राप्त की जानी चाहिए। (वैकल्पिक)
  • व्रत की अवधि के दौरान, धूम्रपान, शराब का सेवन और मांसाहारी भोजन खाने की अनुमति नहीं है।
  • दिन में केवल 2 बार भोजन किया जा सकता है। पहला भोजन दोपहर 12 बजे के बाद होना चाहिए।
  • साधना काल के दौरान सफेद या हल्के रंग के कपड़े पहने जा सकते हैं।
  • साधना के लिए शिवांग किट की आवश्यकता होती है। आप इस किट को ईशा लाइफ से मंगवा सकते हैं।
 
संपर्क करें
 

Contact Details:

Email: info@shivanga.org

Phone:  +91-83000 83111

Contact List

एक संदेश छोड़ें

अनुभव