पतझड़ में बहार

पेड़ से गिरता है एक पत्ता,

सौम्यता व कोमलता से

लेकिन है इसमें छिपी हुई

एक गहराई -

 

क्योंकि जो गिरते हैं 

अपनी इच्छा से

वो पहुँचते हैं 

सबसे ऊंचे शिखरों तक

आनंदों के विविध रंग

हैं नृत्य मृत्यु के।

चक्रों में आते हैं – जाते हैं

जीवन के अनेक वैभव।

Love & Grace

 
seperator
 
 
 
 
 
 
 
  0 Comments
 
 
Login / to join the conversation1