ध्यानलिंग में नाद आराधना क्यों होती है?

ध्यानलिंग की ऊर्जा इतनी ज़्यादा शक्तिशाली हो सकती है कि इसे हल्का करने के लिए हमने ध्वनि का इस्तेमाल करना शुरू किया - इसे बढ़ाने के लिए नहीं, इसे कम करने के लिए।
 
ध्यानलिंग में नाद आराधना किसलिए/क्यों होती है?
 

सुयश - सद्‌गुरु, क्या आप यह कह रहे हैं कि मैं ध्यानलिंग मंदिर में बैठकर गुरु की कृपा प्राप्त कर सकता हूं?

सद्‌गुरु - ध्यानलिंग चैतन्य की सर्वोच्च अभिव्यक्ति है। यह एक जीवित इंसान की तरह है, जिसके सभी सातों चक्र अपने चरम पर अभिव्यक्त हैं। यह जीवित है। यह भौतिक धरातल पर नहीं है, यह विज्ञानमयकोश या आध्यात्मिक शरीर के स्तर पर है। एक इंसान का पूरा शरीर बहुत ही सूक्ष्म ढंग से वहां मौजूद है। बेशक यह एक गुरु की तरह है, भले ही यह उस भौतिक गुरु की तरह न हो, जो आपसे बात करता है, लेकिन फिर भी यह एक गुरु है। एक गुरु आपसे बात करने या भौतिक स्तर पर आपका मार्गदर्शन करने के लिए नहीं होता। इस दुनिया में आपके रिश्ते शारीरिक, मानसिक या भावनात्मक स्तर पर होते हैं, लेकिन गुरु के साथ आपका रिश्ता कुछ ऐसा होता है कि वह आपको उन आयामों में छूता है, जहां दूसरे नहीं छू सकते, इसलिए बेशक यह आपका गुरु है।

अगर आप अपनी तीव्रता बढ़ाते हैं तो आप भी उस तरह से बन सकते हैं, उतने ही तीव्र और सुन्दर। तो जो इंसान कोई भी आध्यात्मिक साधना कर रहा है, उसके लिए यह बेहद फायदे का है। आप यह साफ तौर पर अनुभव कर सकते हैं।

 

ध्यानलिंग: एक जीवित गुरु

इसे अपने गुरु की तरह इस्तेमाल करने के लिए एक आसान तरीका है - बस ध्यानलिंग को कुछ मिनट तक एकटक देखें और फिर आंख बंद करके बैठ जाएं, कोई रूप देने की कोशिश न करें, कोई कल्पना करने की कोशिश न करें, इसे अपनी याद्दाश्त में वापस लाने की कोशिश न करें - यह अपने आप होगा। हम ध्यानलिंग के रूप को आपके अंदर, आपके ऊर्जा-तंत्र में छाप देना चाहते हैं, क्योंकि यह कोई भौतिक रूप नहीं है, यह एक ऊर्जा रूप है। आप जो पत्थर का लिंग देखते हैं, उसका इस्तेमाल सिर्फ एक ढांचे, एक मचान की तरह, ऊर्जा रूप पैदा करने के लिए किया गया है। यह ऊर्जा रूप ही है, जो आपके तंत्र पर खुद-ब-खुद छप जाता है। यह आपके भीतर से काम करता है। एक बार जब आप इसे घटित होने देते हैं, तब यह हमेशा आपके साथ रहता है - आपका मार्गदर्शन करता हुआ, आपके भीतर गहरे आयामों में आपके लिए चीजों को करता हुआ। देखिए, आप भी उसी तत्व से बने हैं, लेकिन आपके अंदर यह निष्क्रिय अवस्था में है, लगभग गैरहाजिर। यह ऊर्जा आपके अंदर उस स्तर की तीव्रता पाने में असमर्थ है, क्योंकि आप अपने कार्मिक तत्वों - शारीरिक, मानसिक और प्राणिक शरीर - के साथ बहुत बुरी तरह से उलझे हुए हैं। अगर आप अपनी तीव्रता बढ़ाते हैं तो आप भी उस तरह से बन सकते हैं, उतने ही तीव्र और सुन्दर। तो जो इंसान कोई भी आध्यात्मिक साधना कर रहा है, उसके लिए यह बेहद फायदे का है। आप यह साफ तौर पर अनुभव कर सकते हैं।

 

 

सुयश - मैंने ध्यानलिंग मंदिर में नाद आराधना का अनुभव किया, यह मेरे जीवन का सबसे सुन्दर और दिल को छू लेने वाला अनुभव रहा है। सद्‌गुरु, मंदिर में ध्वनि के अर्पण का क्या महत्व है?

 

अर्पण का क्या महत्व है?

सद्‌गुरु -आपको यह चीज ठीक से समझनी चाहिए। कुछ मायनों में, नाद आराधना में ऐसा कुछ खास नहीं है। ध्वनि का अर्पण जो है, वह ऊर्जा के संदर्भ में कुछ नहीं करता। इसे मंदिर में शुरू करने की वजह यह है कि ध्यानलिंग की ऊर्जा इतनी ज़्यादा शक्तिशाली हो सकती है कि लोग उससे बहुत ज़्यादा अभिभूत हो सकते हैं। तो इसे हल्का करने के लिए हमने ध्वनि का इस्तेमाल करना शुरू किया - इसे बढ़ाने के लिए नहीं, इसे सौम्य बनाने के लिए।

इसलिए मैं बोल रहा हूं, अब आप मेरे प्रति ग्रहणशील हो जाते हैं, लेकिन वास्तव में, मैं आप पर तब ज़्यादा चीजें कर सकता हूं, जब मैं नहीं बोल रहा होता। जब मैं कुछ नहीं कर रहा होता, तो वह मेरे जीवन का सबसे अहम पहलू होता है, तभी मैं विस्फोटक होता हूं।

 

नाद आराधना: ग्रहणशील बनने का माध्यम

अगर मंदिर के अंदर लोगों की भीड़ होती, तो यह ऊर्जा खुद-ब-खुद नियंत्रित रहती। अभी, कुछ खास दिनों में दस-पंद्रह हजार लोग आते हैं, लेकिन दूसरे दिनों में सिर्फ दो-चार सौ लोग ही आते हैं। तो दिन में कई बार ऐसा होता है, खासकर रात में, कि मंदिर में कोई भी हलचल नहीं होती, यह बिल्कुल नि:शब्द रहता है। उस शांति और निश्चलता में ध्यानलिंग की ऊर्जा बहुत अधिक तीव्र हो जाती है। जब कोई भी स्थिति बहुत प्रचंड होती है, तो एक इंसान की स्वाभाविक प्रतिक्रिया खुद को बंद कर लेने की होती है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि इंसान अपनी सारी जिंदगी बस अपना वजूद बरकरार रखने की चिंता में बिताता है। अगर वह एक ऐसी स्थिति का सामना करता है जो बहुत प्रबल है, वह एक सुरक्षा खोल बना लेता है, जो किसी बाहरी चीज को अंदर नहीं आने देता। जब लोग ध्यानलिंग के करीब आते हैं, तो वे खुद को खोलने के बजाय बंद करने का रुख अपना लेते हैं क्योंकि वह बहुत प्रचंड है। तो अब हम बस एक ध्वनि पैदा कर रहे हैं। उस ध्वनि को सुनने के लिए आप खुद को खोलते हैं। जैसे ही आप खुद को खोलते हैं, ऊर्जा काम करना शुरू कर देती है, यह बस एक तरकीब है आपको खोलने के लिए। हर पल वैसा हो सकता है, लेकिन ज़्यादातर लोगों में वैसी ग्रहणशीलता नहीं होती। अगर मैं यहां सिर्फ बैठा रहूं, तो आप मेरे प्रति ग्रहणशील नहीं होंगे। इसलिए मैं बोल रहा हूं, अब आप मेरे प्रति ग्रहणशील हो जाते हैं, लेकिन वास्तव में, मैं आप पर तब ज़्यादा चीजें कर सकता हूं, जब मैं नहीं बोल रहा होता। जब मैं कुछ नहीं कर रहा होता, तो वह मेरे जीवन का सबसे अहम पहलू होता है, तभी मैं विस्फोटक होता हूं।

ध्यानलिंग को गुरु की तरह इस्तेमाल करने के लिए एक आसान तरीका है - बस ध्यानलिंग को कुछ मिनट तक एकटक देखें और फिर आंख बंद करके बैठ जाएं, कोई रूप देने की कोशिश न करें, कोई कल्पना करने की कोशिश न करें, इसे अपनी याद्दाश्त में वापस लाने की कोशिश न करें - यह अपने आप होगा।

 

 
 
 
 
  0 Comments
 
 
Login / to join the conversation1