क्या आप कल का स्वागत करने के लिए तैयार हैं?

सद्गुरु हमें बताते हैं कि आध्यात्मिक प्रक्रिया जीवन के लिए एक स्वछंद उत्साह होने से अलग नहीं है।
क्या आप कल का स्वागत करने के लिए तैयार हैं?
 

सद्गुरु हमें बताते हैं कि आध्यात्मिक प्रक्रिया जीवन के लिए एक स्वछंद उत्साह होने से अलग नहीं है।

सद्‌गुरु: आमतौर पर दुनिया में हर कोई अपने सपनों को पूरा करने की सोचता है। आपका सपना जो कुछ भी हो, यह आपके अतीत का एक बढ़ाया-चढ़ाया हुआ रूप होता है। आप किसी ऐसी चीज का सपना नहीं देख सकते जिसे आप जानते नहीं हैं। तो, आप जो जानते हैं उसी के आधार पर आपको भविष्य में क्या करना है तय करते हैं। जब आप पहले से जो जानते हैं उसी से अपना भविष्य तय करते हैं, तो एक तरह से आप ये सुनिश्चित कर लेते हैं कि आपके साथ कभी भी कुछ नया नहीं होगा। भविष्य के लिए ऐसे सपने एक संभावना नहीं हैं, बल्कि निराशा हैं। आप भविष्य में अतीत की तलाश कर रहे हैं। आप वास्तव में वापस लौट रहे हैं लेकिन आपको लगता है कि आप आगे बढ़ रहे हैं।

किसी लक्ष्य के बिना बस यहाँ रहना ही एक आध्यात्मिक प्रक्रिया है।

किसी लक्ष्य के बिना बस यहाँ रहना ही एक आध्यात्मिक प्रक्रिया है। इसका मतलब सुस्त और शिथिल होना नहीं है। एक आध्यात्मिक प्रक्रिया का अर्थ है कि अभी जो कुछ भी हो रहा है उसके साथ गहरी भागीदारी के साथ में रहना, लेकिन लक्ष्य के बिना। यदि आप इस तरह से यहाँ बैठने की हिम्मत रखते हैं कि “कल जो कुछ भी होगा, मुझे मंज़ूर है, लेकिन अभी मैं जो कुछ भी कर रहा हूँ उसे मैं सबसे अच्छे तरीक़े से करूंगा," तो आप स्वाभाविक रूप से आध्यात्मिक होंगे।

कुछ साल पहले मैं कुछ साहसी लोगों के एक ग्रुप से मिला, जिन्होंने दुनिया की सबसे ऊंची पर्वत चोटियों की चढ़ाई की थी। वे उत्तरी ध्रुव के पार चले गए, और उन्होंने सर्दियों में तीन महीने तक समुद्र के स्तर से बीस-बाईस हज़ार फीट की ऊंचाई पर चढ़ाई की। वे एक ऐसे स्थान पर रहना चाहते थे, जहां उन्हें पता न हो कि अगले क्षण क्या आ रहा है। वे मुझसे मिलने आए थे और हमारे एक स्वयंसेवक इनर इंजीनियरिंग कार्यक्रम के बारे में उन्हें बता रहे थे। मैंने सिर्फ इन लोगों को देखा और मैं जान गया कि मुझे उनके साथ तीन दिन बर्बाद करने की ज़रूरत नहीं थी। मैंने उनसे कहा कि बस मेरे साथ बैठो और अपनी आँखें बंद कर लो, बस और कुछ नहीं। सब कुछ बस एक शब्द भी बोले बिना हुआ। उन्होंने अपने जीवन में आध्यात्मिकता के बारे में कभी सोचा नहीं था, वे केवल रोमांच चाहते थे - वे उस तरह से जीना चाहते थे जहां वे नहीं जानते कि अगला पल क्या लाएगा। मुझे उन्हें कुछ भी सिखाने की ज़रूरत नहीं थी, मुझे बस उन्हें प्रज्वलित करना था क्योंकि वे पहले ही अच्छी तरह से तैयार थे। उनके शरीर अच्छे और स्वस्थ थे, दिमाग खुला हुआ था और किसी भी चीज के लिए तैयार था। और बस इतने की ही ज़रूरत है।

आप कल के लिए तत्पर हैं। यह कुछ भी हो सकता है। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि यह क्या है ...

यहाँ सहज रूप से रहने के लिए, आप या तो यहाँ पागलपन जितने साहस से रह सकते हैं, और या सृष्टा में विश्वास करके रह सकते हैं। ये दो तरीके हैं। ये साहसी लोग पागलपन जितने साहस के साथ रह रहे थे। सब लोग ऐसे नहीं हो सकते, लेकिन कम से कम आपको सृष्टा पर भरोसा होना चाहिए। सृष्टा पर भरोसा करने का अर्थ यह नहीं है कि आप अपने सिर में भगवान से बात करते रहें। यह बात कि आप जहां भी बैठे हैं, आराम से हैं, इसी को विश्वास कहते है। क्योंकि ऐसी घटनाएं हुई हैं कि धरती फटी और उसने लोगों को निगल लिया। ऐसी घटनाएं हुई हैं कि लोगों पर आकाश के टुकड़े गिर गए और उन्हें कुचल कर मार डाला। ऐसी परिस्थितियां हुई हैं कि जिस हवा में लोगों ने सांस ली उसी ने उनकी जान ले ली। यह गोल ग्रह बहुत तेज़ गति से घूम रहा है और अपनी पूरी गति से सौरमंडल और आकाशगंगा की यात्रा कर रहा है। मान लीजिए कि धरती माँ अचानक विपरीत दिशा में घूमना शुरू कर दे, तो आप जहां अभी बैठे हैं, वहाँ से उड़ जाएँगे। यहाँ बैठने, मुस्कुराने, सुनने या बात करने के लिए, आपको भरोसे की ज़रूरत है - बहुत सारा भरोसा, है या नहीं?

यदि आपके पास यह विश्वास है, तो आप बस यहाँ हो सकते हैं - और आध्यात्मिक प्रक्रिया में यह एक मौलिक कदम है। आप कल के लिए तत्पर हैं। यह कुछ भी हो सकता है। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि यह क्या है, आप इसके लिए तत्पर हैं। यह जीवन के लिए एक स्वछंद उत्साह है।