कावेरी पुकारे अभियान की झलकें - बेंगलुरु कार्यक्रम

शिवना समुद्र और टी नरसीपुरा के बाद रैली ने अपने आखिरी चरण में प्रवेश किया और मोटरसाइकिल सवार बेंगलुरु पहुंचे।
isha blog article | Day 6 - Cauvery Diaries: Of Motorcycles and a Mystic
 

तेलुगु टीवी चैनल ईटीवी के साथ एक इंटरव्यू के लिए जाने से पहले सद्‌गुरु ने कुछ देर बेंगलुरु के युवाओं के साथ पैलेस ग्राउंड्स पर क्रिकेट खेला। वे सद्‌गुरु के साथ सेल्फी लेकर खुश थे!

day-6-caca-eng-blog-pic6

बेंगलुरु कावेरी घाटी के सिरे पर है। इस शहर की झीलें इसके पानी का स्रोत रही हैं। लेकिन अब झीलें नष्ट हो चुकी हैं, इसलिए बेंगलुरु कावेरी के पानी पर निर्भर है, जिसे 140 किमी की दूरी से ऊंचे स्तर पर पहुँचाया जाता है, जिसकी लागत 350 करोड़ प्रति वर्ष है। नीति आयोग ने बेंगलुरु को उन 21 प्रमुख भारतीय शहरों में शामिल किया है जहां साल 2020 (यानि अगले साल!)में ज़मीन के नीचे का पानी खत्म हो जाएगा, और बीबीसी ने इसे दुनिया के उन 11 शहरों में शामिल किया है, जो जल्द ही डे ज़ीरो का सामना करेंगे, जैसे कि साउथ अफ्रीका का केप टाउन और ब्राज़ील का साओ पाउलो।

 

1

 

मुख्य मंत्री बीएस येदियुरप्पा ने कावेरी पुकारे को कर्णाटक में एक प्रमुख अभियान के रूप में पहचाने जाने के बारे में बताते हुए कहा – “इस मोटरसाइकिल रैली ने पूरे कर्णाटक में 6 करोड़ कन्नड़ लोगों में जागरूकता फैलाई है”

 

2

 

बेंगलुरु कार्यक्रम के समापन पर मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने सद्‌गुरु को झंडी दिखाई जिसके बाद वे तेज़ रफ़्तार से रवाना हो गए। इस कार्यक्रम के बाद वे दिल्ली जाएंगे, जिसके बाद तमिल नाडू में कावरी पुकारे के अगले चरण की शुरुआत होगी।