दिल से हिस्‍सा लिया मुंबई मैराथॉन में
ईशा विद्या स्वयंसेवकों ने पिछली जनवरी में आयोजित हुए मुंबई मैराथॉन के दौरान लगभग एक करोड़ रुपये इकट्ठा किये। उनके अथक प्रयासों के लिए मैराथॉन के आयोजकों ने मुंबई में हुए एक कार्यक्रम में ईशा मुंबई टीम का अभिनंदन किया।
 
Isha Vidhya
 

ईशा विद्या स्वयंसेवकों ने पिछली जनवरी में आयोजित हुए मुंबई मैराथॉन के दौरान लगभग एक करोड़ रुपये इकट्ठा किये। उनके अथक प्रयासों के लिए मैराथॉन के आयोजकों ने मुंबई में हुए एक कार्यक्रम में ईशा मुंबई टीम का अभिनंदन किया।

ईशा मुंबई के स्वयंसेवक पिछले पांच सालों से ईशा विद्या के लिए मुंबई मैराथॉन में लंबी दूरी की दौड़ में हिस्सा लेते रहे हैं। इस वर्ष स्वयंसेवक धावकों ने धन-संकलन  की अपनी कोशिशों से लगभग एक करोड़ रुपये (लगभग 2 लाख अमेरिकी डॉलर) इकट्ठा किये। धन-संकलन के प्रयासों में लगभग 200 गैर-सरकारी संस्थानों के बीच इस टीम ने तीसरा स्थान प्राप्त किया। मुंबई मैराथॉन के आयोजकों – ‘प्रोकैम तथा युनाइटेड वे ऑफ मुंबई’- द्वारा एक विशेष ‘चैरिटी अवार्ड्स नाइट’ में इन स्वयंसेवकों को सम्मानित किया गया।

उनकी कुछ विशेष  उपलब्धियां इस प्रकार थीं:

  • ईशा विद्या टीम में पैसे इकट्ठे करने वाले स्वयंसेवकों की संख्या सबसे ज्यादा थी।
  • ‘ड्रीम विजार्ड कैटेग्री’(इस श्रेणी में कम-से-कम 5 लाख रुपये इकट्ठा करने की शपथ लेने वाले व्यक्ति आते हैं) में सर्वाधिक राशि इकट्ठा करने का पुरस्कार मुंबई टीम की 16 वर्षीय इशा जैन ने जीता।

हालांकि स्वयंसेवक किसी पुरस्कार के लिए नहीं बल्कि एक मकसद को लेकर, जो उनके दिल के बेहद करीब होता है, दौड़ में भाग लेते हैं लेकिन जब समारोह के आयोजक उनके प्रयासों को इस प्रकार पुरस्कृत करते हैं तो बहुत अच्छा लगता है।  निस्संदेह ईनाम की यह राशि भी ईशा विद्या की मदद ही करेगी। ईशा विद्या टीम उन सभी दानकर्ताओं और स्वयंसेवकों के प्रति हृदय से आभारी है जिनकी  निरंतर कोशिशों से यह सुखद परिणाम संभव हो पाया। यह इकट्ठी की गई राशी निश्चित रूप से उन ग्रामीण बच्चों की जिंदगी संवारेगी जो ईशा विद्या के तहत शिक्षा पा रहे हैं ।

अगर आप भी किसी मकसद के लिए दौड़ लगाने या किसी और खेल-कूद समारोह में हिस्सा लेने और ईशा विद्या के लिए पैसे इकट्ठे करने को ले कर उत्साहित हैं, तो कृपया प्रभु लोगनाथन से उनके ईमेल आई.डी. prabhu.loganathan@ishavidhya.com पर संपर्क करें।

 

 
 
 
 
  0 Comments
 
 
Login / to join the conversation1