ईशा आउटरीच

ग्रामीण विकास, सुविधाहीन के लिए अच्छी शिक्षा, पर्यावरण सुधार और संपूर्ण स्वास्थ्य के लिए बड़े पैमाने पर चल रही मानवीय संपर्क परियोजनाओं ने ईशा फाउंडेशन को संयुक्त राष्ट्र में विशेष सलाहकार का दर्जा दिलाया है।
 
 
 
 

ईशा की सामाजिक पहल, ‘ईशा आउटरीच’ में अनेक उल्लेखनीय पहलों व प्रयत्नों को शामिल किया गया है, जैसे पर्यावरणीय, शैक्षिक तथा सामुदायिक पुनरुद्धार और स्वास्थ्य से जुड़े प्रयत्न शामिल हैं। विशेष तौर पर दक्षिण भारत में कार्यरत ईशा आउटरीच, मानवीय सद्भाव और प्रयासों से आने वाले रूपांतरण की जीती-जागती मिसाल बन कर सामने आई है। ये कार्यक्रम बहुत ही सूक्ष्मता के साथ प्लान किए जाते हैं, जिन्हें लगभग 2 मिलियन से भी अधिक स्वयंसेवक अंजाम देते हैं। वे अपनी ओर से अपना समय व श्रम देते हुए, मानवता की सेवा में जुटे हैं।