नेतृत्व – महत्वाकांक्षा से दूरदर्शिता तक

जटिल मुद्दों को उनके सिर्फ बहुत जरूरी अंशों तक सीमित करने की सद्गुरु की विलक्षण क्षमता के कारण कई विश्वविद्यालय जैसे एमआईटी, स्टेनफोर्ड, हार्वर्ड और ऑक्सफोर्ड बार-बार उन्हें वक्ता के तौर पर बुलाते रहे हैं।
 
 

सद्‌गुरु ‘लीडरशिप-फ्रॉम एंबीशन टू विजन’ (नेतृत्व – महत्वाकांक्षा से दूरदर्शिता तक) विषय पर, लुसाने, स्विटजरलैंड के इंस्टीट्यूट फॉर मैनेजमेंट डेवलपमेंट (आईएमडी) में बोलते हुए।