हमारी नदियाँ तेज़ी से सूख रही हैं

गंगा, कृष्णा, नर्मदा, कावेरी – हमारी महान नदियों में से कई नदियाँ तेजी से घट रही हैं। अगर हमने इन्हें बचाने के लिए अभी कदम नहीं उठाये, तो जो विरासत हम अगली पीढ़ी को सौपेंगे वो संघर्ष और अभाव से भरी होगी। इन नदियों ने हजारों सालों तक हमारा पोषण किया है। अब समय आ गया है कि हम उन्हें पोषित करें और फिर से स्वस्थ बनाएं।

ज्यादा जानकारी

नदियों को कैसे बचाएं?

भारत की नदियों को फिर से जीवंत करने का सबसे आसान उपाय है – नदी के दोनों ओर कम-से-कम एक किलोमीटर की चौड़ाई में पेड़ लगाना। अगर सरकारी भूमि है तो जंगल लगाएं जाएं और कृषि भूमि पर फलों या दूसरे तरह के पेड़ लगाए जाएं। इससे यह सुनिश्चित होगा कि मिट्टी नम रहेगी, और पूरे साल मिट्टी से नदियों तक पानी पहुंचता रहेगा। इससे बाढ़, सूखा और मिट्टी की कमी भी कम हो जाएगी और किसानों की आय में वृद्धि होगी।

ज्यादा जानकारी

आप क्या कर सकते हैं…

नदियों को बचाने के लिए वोट करें

अभी करें मिस्ड कॉल

80009 80009

आपकी मिस्ड कॉल नदियों को बचाने के लिए एक सकारात्मक नीति बनाने में मदद करेगी। जानें कैसे

अगर आपके पास सुझाव हैं, तो हमें आपकी जरुरत है!

हम सभी पर्यावरण वैज्ञानिकों, विशेषज्ञों और पेशेवर लोगों को आमंत्रित करते हैं।
हमसे जुड़ें और हमारी सूखती नदियों को बचाने का प्लान तैयार करने में अपने ज्ञान और कौशल का योगदान देकर मदद करें, और देश की जीवन धाराओं को बचाएं।

हम नीचे दिए गए ईमेल पर आपके सुझावों की उम्‍मीद करते हैं।
Ideas@RallyForRivers.org

#RallyforRivers

सद्‌गुरु जागरूकता फैलाने के लिए खुद कन्याकुमारी से हिमालय तक गाड़ी चला कर जाएंगे।

यात्रा की शुरुआत: 3 सितम्बर

कोयंबतूर

यात्रा का समापान: 2 अक्टूबर

नई दिल्ली

हिस्सा लें और अभियान को समर्थन दें

रचनात्मक लेखन प्रतियोगिता - कैमलिन द्वारा आयोजित

ये प्रतियोगिता कक्षा 5 से 7 तक के बच्चों के लिए है। 40 शब्दों में “भारत की जीवन-दायिनी नदियों को बचाएं” पर लेख लिखें। स्कूल, राज्य और राष्ट्रीय स्तर पर सबसे अच्छे लेखों को पुरस्कार दिए जाएंगे।

रचनात्मक कला प्रतियोगिता – निकलोडीयन द्वारा आयोजित

सारे स्कूल को एक साथ लाते हुए सभी के सहयोग से एक ऐसा आर्ट प्रोजेक्ट तैयार करें, जो नदी अभियान के बारे में आपके स्कूल के विचार दर्शाता हो। प्रस्तुति कोई रचनात्मक छात्र गठन, पेंटिंग, दीवार पर बनाई गई आकृति, कोलाज या मूर्ति हो सकती है – जो आपके विचारों को लोगों तक पहुंचा सके। आप आकर्षक पुरस्कार जीत सकते हैं!

ऑनलाइन वीडियो अपलोड – जल्द आ रहा है!

सभी फिल्म निर्माता आमंत्रित हैं! एक ऐसी छोटी फिल्म बनाने के लिए जो भारत की लुप्त होती नदियों की कहानी सुनाती हो। पूरे देश को इसके बारे में जानकारी और ज्ञान दें, और कुछ करने के लिए प्रेरित करें! सर्वश्रेष्ठ एंट्रीज़ को आकर्षक इनाम दिए जाएंगे! अधिक जानकारी के लिए ये सेक्शन चेक करते रहें।

0
View All
    View All

    मीडिया में

    ईशा फाउंडेशन ने महाराष्ट्र में हरियाली बढाने का एम्ओयू साइन किया

    July 2, 2017 | ट्रिनिटी मिरर
    महाराष्ट्र सरकार के वन विभाग और ईशा फाउंडेशन ने एक एम्.ओ.यू पर हस्ताक्षर किए

    सद्‌गुरु जग्गी वासुदेव के नदी मन्त्र से भारत को जीवन दायक पानी मिलेगा

    July 16, 2017 | डेक्कन क्रॉनिकल
    गुरु 3 सितम्बर को राष्ट्रवादी अभियान शुरू करने जा रहे हैं। ईशा फाउंडेशन के सद्‌गुरु जग्गी वासुदेव नदियों को बचाने और उन्हें नया जीवन देने के मिशन पर हैं।

    सरकारी और आध्यात्मिक संगठनों ने कावेरी के तटों को नया जीवन देने का काम शुरू किया

    July 13, 2017 | द टाइम्स ऑफ़ इंडिया
    कावेरी के उद्गम स्थान, कोडागु जिले के हाल के इतिहास में पड़े पहले सूखे ने, आध्यात्मिक संगठनों, सरकार और पर्यावरण के प्रति सचेत व्यक्तियों को जगा दिया है।