The Adiyogi Alayam Consecration

AYAConsecration
[twocol_one] [translate lang=english]

 
For the last four months, there has been no day and night in the ashram. It has just been one long workday. What happened at the Adiyogi Alayam construction site during these four months has been tremendous; the residents and volunteers worked tirelessly to make this event possible, and the Consecration went off in tremendous fashion. These types of events and processes are usually conducted in an intimate setting, but we had 11,049 meditators here, and their level of cooperation, exuberance and intensity is something you cannot find anywhere. The hall was just overflowing with people; we have already outgrown the space even before it has been fully completed.

The reason why we created an Adiyogi Alayam is to bring back classical yoga in its purest form. Not studio yoga, not book yoga, not the kinds of things that are being done in the world today, but proper classical yoga, which is a phenomenally powerful science. The only thing is, if you were given a choice between studying fundamental physics, computer science, software development, commerce or just simply having a degree, which would you choose? Many people would choose the second, third, fourth or fifth one – but not the first one.

When it comes to the world, there is only one science, which is physics. Everything else is just an offshoot. But how many people in the world do you think are studying physics today? Fundamental physics is studied by an extremely miniscule number of people. Right now, people’s understanding of science is the iPhone. People think that is a great scientific achievement, but it is just a fancy gadget. I am not trying to put down the iPhone, it is useful, but it is just a little gadget. That is not science. Creating that is also not science, just a little bit of technology. Fundamental physics is the science.

Today, the reason why you have all these electronics and gadgets is because for the first fifty years of scientific development, scientists invested in fundamental physics. You are reaping the benefit of that now. You will see that after thirty years, if there are not many people in fundamental physics, nothing new will come out of science because the basic scientific knowledge will be missing.

Similarly in yoga, there is a classical science which is the science. But today, there is no investment in the concrete science of yoga, people are just trying to reap the benefits. It is like, if you grow a cow, you can milk it. After some time, people will only be interested in the udder, not the cow. So they won’t have a cow, they will just have a plastic udder and they will go on milking it. After some time, no milk will come. Slowly, our attention has become like this – we have forgotten what gives the milk.

One fundamental reason to create the Adiyogi Alayam was to re-establish classical yoga; we want to build people who are willing to invest their lives in the profoundness of yoga, not getting fancy benefits out of it, not hanging onto a chair or a tree and thinking they are doing yoga. Bringing back that dimension will not happen by instruction only; a phenomenal energy is needed. Otherwise, yoga cannot be taught. If you teach yoga without creating a vessel of energy, that is not yoga. That is just a farce. That farce is going all over the world right now.

[/translate] [translate lang=hindi]

 
पिछले चार महीने से आश्रम में लगातार तेज गति से काम हो रहा है। न दिन का पता है, न रात का। ऐसा लगता है जैसे यह चार महीने का समय नहीं एक लंबा कार्य दिवस है। आदि योगी आलयम की स्थापना जिस जगह हुई है, वहां इन चार महीनों में जो कुछ भी हुआ, वह शानदार है। यहां के निवासियों और स्वयंसेवकों ने इस कार्यक्रम को संभव बनाने के लिए दिन रात बिना थके काम किया। जिसके चलते आदि योगी आलयम की प्राण प्रतिष्ठा शानदार तरीके से संपन्न हुई। इस तरह के आयोजन आमतौर पर बेहद निजी माहौल में संपन्न होते हैं, लेकिन यहां हमने 11049 साधकों को आमंत्रित किया। ये ऐसे लोग थे, जिनके स्तर का सहयोग और तीव्रता आपको कहीं और देखने को नहीं मिलेगी। हॉल भीड़ से ठसाठस भरा था, अभी निर्माण कार्य पूरा नहीं हुआ है और लोगों की संख्या जगह के हिसाब से बहुत अधिक हो गई है।

आदि योगी आलयम की स्थापना के पीछे एक मकसद है। इसके माध्यम से हम अपने पारंपरिक योग को उसके विशुद्ध रूप में वापस लाना चाहते हैं। स्टूडियो योग, किताबों पर आधारित योग जैसी तमाम चीजें, जो आजकल दुनिया भर में प्रचलित हो रही हैं, हम उनकी जगह एक बेहद प्रभावकारी, सही और विशुद्ध पारंपरिक योग को लाना चाहते हैं। अगर आपको फंडामेंटल फिजिक्स, कंप्यूटर साइंस, सॉफ्टवेयर डिवेलपमेंट और कॉमर्स में से पढ़ाई के लिए विषय चुनने का विकल्प दिया जाता तो आप क्या करते ? आपमें से ज्यादातर लोग दूसरे, तीसरे, चौथे या पांचवे विकल्प को चुनते, लेकिन पहले को नहीं।

देखा जाए तो दुनिया में बस एक ही विज्ञान है और वह है फिजिक्स या भौतिकी। बाकी सभी चीजें तो इसकी उप शाखाएं हैं। लेकिन आज दुनिया भर में कितने लोग ऐसे हैं, जो फिजिक्स पढ़ रहे हैं। ऐसे लोगों की तादाद बेहद कम है जो फंडामेंटल फिजिक्स का अध्ययन कर रहे हैं। आज के दौर में लोगों की विज्ञान की समझ आईफोन तक सीमित है। उन्हें लगता है कि ऐसी चीजें विज्ञान की बड़ी उपलब्धि हैं, लेकिन असल में आईफोन महज एक लुभावना गैजट है। मैं यहां आईफोन के महत्व को कम करने की कोशिश नहीं कर रहा हूं। यह बेहद उपयोगी है, फिर भी यह है तो एक छोटा सा गैजट ही। इसे बनाने में कोई विज्ञान नहीं है। बस एक तकनीक की मदद से इसे बनाया दिया गया है। असली विज्ञान तो फंडामेंटल फिजिक्स है।

आपने कभी सोचा है कि आज अगर आपके पास इतने इलेक्ट्रॉनिक आइटम और गैजट की भरमार है तो उसकी पीछे वजह क्या है? आज यह सब इसलिए संभव हो पाया है क्योंकि वैज्ञानिक विकास के शुरूआती 50 साल वैज्ञानिकों ने फंडामेंटल फिजिक्स में निवेश किए। इसी निवेश के फल का आज आप आनंद ले रहे हैं। आप देखना, अगर फंडामेंटल फिजिक्स के क्षेत्र में ज्यादा लोग नहीं आए तो आज से 30 साल बाद विज्ञान की गोद से कोई भी नई चीज नहीं निकलेगी क्योंकि तब तक लोगों में विज्ञान की बुनियादी समझ की भारी कमी होगी।

इसी तरह योग का भी एक पारंपरिक विज्ञान है, लेकिन आज योग के इस विशुद्ध विज्ञान के विकास के लिए कोई काम नहीं हो रहा है। लोग बस योग के फायदों का ही दोहन कर रहे हैं। यह ठीक इसी तरह है जैसे आप एक गाय को बड़ा करते हैं और फिर उसे दुह सकते हैं। कुछ समय बाद लोगों को बस गाय के थनों से ही मतलब रह जाता है, गाय में उनकी दिलचस्पी खत्म हो जाती है। ऐसे में क्या होगा ? कुछ समय बाद गाय दूध देना बंद कर देगी, क्योंकि हमने दूध के स्रोत पर ध्यान ही नहीं दिया। धीरे-धीरे आज हमारी हालत कुछ ऐसी ही हो गई है। हम यह भूल गए हैं कि दूध देता कौन है?

आदि योगी आलयम की स्थापना की एक प्रमुख वजह यह है कि इसके माध्यम से हम पांरपरिक योग को दोबारा लाना चाहते हैं। हम ऐसे लोगों को तैयार करना चाहते हैं, जो सिर्फ योग के फायदों का दोहन करने की बजाय योग की गहराई में अपना पूरा जीवन समर्पित कर दें। ये ऐसे लोग होंगे, जो किसी पेड़ के नीचे बैठ जाने को ही योग नहीं मानेंगे। योग के उस पहलू को वापस लाना महज उपदेशों और आदेशों से ही संभव नहीं होगा। इसके लिए असाधारण ऊर्जा की आवश्यकता होगी। इसके अभाव में योग की शिक्षा नहीं दी जा सकती। बिना ऊर्जा का पात्र बनाए अगर आप योग की शिक्षा देने की कोशिश करेंगे तो वह योग नहीं है। वह एक किस्म का तमाशा है और यही तमाशा आज दुनिया भर में चल रहा है।

[/translate] [/twocol_one] [twocol_one_last] [translate lang=english]

So we have built the Adiyogi Alayam with that intention, we want a powerful space. We want this to be such a vibrant space that if you simply sit here, really tuned in to what is happening in the hall, you must be able to know all the yoga sutras. You never have to open a book, you never have to listen to anybody, you just have to energy tune yourself and it will be there. Tomorrow, when we are not here, there still has to be a space which will teach yoga. Maybe there will be no guru here, but even if teachers stand here, suddenly things should come out of them that they do not know. They should begin to say things, they should begin to feel things, they should begin to experience things that they themselves do not know. Only then can we transmit this. That is why so much effort is going into this, and many more things have to be done.

During the process, there were two levels of consecration. One was to consecrate the linga, which is the most important part, and the other was to create a seat – a hot seat – because for the kinds of things that we are planning to do in this hall, we need a substantial support. If we have to describe the seat in terms of the human system, the nearest quality that I can ascribe to it is the Muladhara* – it creates a stable base to sit on, always. This is needed. One thing that was said in the yoga sutras about Hata Yoga is, ‘sukham sthiram asanam.’ An asana which is comfortable and stable, that is the asana. So stability, balance is the most important aspect whatever we wish to do. How far one goes, how high one climbs, is not a question of strength alone, not a question of intelligence alone, not a question of knowledge alone, not a question of external conduciveness – stability, balance is the most important quality. If this one thing is not there, even with all the other things, you still may not make it because you do not have the necessary balance.

I had been thinking for some time that we have to do something in the Adiyogi’s name because He was the first to put this idea into human civilization – that a human being can evolve into something more than what he is right now. This predates all religion. Every creature has come with a framework. An ant can do certain things, but within that framework. A tiger can do certain things, but only within that framework. He put forth this idea that a human being does not have to limit himself to his dimension, he can transcend; there is another way to be – a completely different way to be. He not only gave the idea, He also gave a method to get there. There has never been a more revolutionary idea on this planet.

* The first chakra. It is the very foundation of all the 114 chakras which form the energy system.
[/translate] [translate lang=hindi]

आदि योगी अलायम की स्थापना हमने इसी मकसद से की है। हमें एक प्रभावशाली स्थान चाहिए। हम इसे एक ऐसी जोशपूर्ण और कंपायमान जगह में बदल देना चाहते हैं कि बस आप यहां बैठें और खुद को उन चीजों के साथ समायोजित कर लें जो हॉल में चल रही हैं तो आप सभी योग सू़त्रों को जान जाएंगे। आपको न तो किसी किताब को खोलने की आवश्यकता है और न ही किसी को सुनने की, आपको बस अपने आप को ऊर्जा के साथ समायोजित करना है और सब कुछ अपने आप होता जाएगा। कल जब हम यहां नहीं होंगे तो एक ऐसी जगह होनी चाहिए, जो योग सिखा सके। हो सकता है कि कल यहां कोई गुरु न हो, लेकिन जो शिक्षक यहां होंगे, उनसे यहां कुछ ऐसी चीजें निकल कर आनी चाहिए, जिसे वे खुद भी नहीं जानते। इस जगह पर आकर उन्हें ऐसी चीजें बोलना और महसूस करना शुरू कर देना चाहिए, जिनसे वे खुद ही अनजान हैं। उसी स्थिति में हम योग को संचारित कर सकते हैं। इसी वजह से इतनी कोशिशें की जा रही हैं और अभी काफी कुछ किया जाना बाकी है।

प्राण प्रतिष्ठा की पूरी प्रक्रिया के दौरान इसके दो स्तर थे। पहला स्तर था लिंग की प्राण प्रतिष्ठा करना, क्योंकि यह सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा है। दूसरा स्तर है एक आसन की स्थापना करना, क्योंकि जिस तरह का काम हम इस हॉल में करने जा रहे हैं उसके लिए एक मजबूत आधार की आवश्यकता है। अगर इस आसन की व्याख्या हम मानव शरीर के संदर्भ में करें तो सबसे नजदीकी चीज, जिससे इसकी तुलना की जा सकता है, वह *मूलाधार है। मूलाधार बैठने के लिए हमेशा एक स्थिर आधार उपलब्ध कराता है और इसकी हमें आवश्यकता है। हठ योग के बारे में योग सूत्र में कहा गया है, ‘सुखम स्थिरम आसनम’ यानी जो स्थिर और आरामदायक है, वही आसन है। तो आप जो भी काम करते हैं, उसके लिए स्थिरता और संतुलन बेहद आवश्यक चीजें हैं। कोई कितनी दूर तक जा सकता है या कितनी उचाई तक चढ़ चकता है, यह महज ताकत का प्रश्न नहीं है और न ही यह महज प्रतिभा का प्रश्न है। इसी तरह न तो सिर्फ ज्ञान का और न ही इस बात का इससे कोई लेना देना है कि बाहरी चीजें उस शख्स के लिए कितनी सहायक हैं। सबसे महत्वपूर्ण चीज है स्थिरता और संतुलन। अगर यह आपके भीतर नहीं है तो बाकी सभी चीजें होने के बावजूद हो सकता है कि आप अपना लक्ष्य हासिल न कर पाएं।

कुछ समय से मेरे मन में एक विचार चल रहा था कि हमें आदियोगी के नाम पर कुछ करना चाहिए, क्योंकि मानवीय सभ्यता को यह विचार देने वाले वह पहले व्यक्ति थे कि कोई इंसान उससे भी बड़े रूप में विकसित हो सकता है, जो वह अभी है। यही सभी धर्मों की बुनियाद है। हर प्राणी की अपनी एक संरचना है। एक चींटी भी कई काम कर सकती है, लेकिन अपनी संरचना के मुताबिक और अपनी सीमाओं के साथ। एक चीता कई काम कर सकता है, लेकिन अपनी सीमाओं में रहकर। आदि योगी ने हमें विचार दिया कि कम से कम इंसान को अपने भीतर की ऐसी सीमाओं में रहने की आवश्यकता नहीं है। वह अपनी सीमाओं से परे जाकर श्रेष्ठ प्राणी बन सकता है। अच्छी बात यह है कि आदि योगी ने बस यह विचार ही नहीं दिया, बल्कि ऐसा करने का तरीका भी बताया। कह सकते हैं कि इस धरती पर ऐसा क्रांतिकारी विचार दूसरा कोई नहीं आया।

* मूलाधार पहला चक्र है। यह उन सभी 114 चक्रों का आधार है, जिनसे मिलकर हमारा ऊर्जा तंत्र बना है।

[/translate]

அன்பும் அருளும்,

Sadhguru
[/twocol_one_last]



இதையும் வாசியுங்கள்

Type in below box in English and press Convert