Poem: The people of Japan

Japanese women presenting a traditional tea ceremony
[twocol_one]

click on photo to zoom

click on photo to zoom

[/twocol_one] [twocol_one_last] [translate lang=english]

JAPANI

If you are not a japani*
for sure your car could be
if not, your television is
if not, your motorcycle definitely is

at least check your phone
or maybe the stereo. Ah, now
your footwear-joothi**. That is it.

You may never have been to japan
no matter where you live, japan
has entered your life.

These gentle people, so unassuming,
humble and delicate in stature
and conduct. How do they manage
to invade everyone’s lives.

Their stoic silence is not of the
weak, their gentleness for sure
not weakness. Determined, Dogged
and Dignified. They stand in
Silent strength.

*Hindi, for a Japanese person
** Hindi, for footwear

[/translate] [translate lang=hindi]

जापानी

यदि आप जापानी नहीं है
आपकी कार हो सकती है
यदि नहीं, तो आपका टेलिवी़जन हो सकता है
यदि नहीं, तो निश्चित ही आपकी मोटर साइकल तो होगी ही।

कम से कम अपना फोन जांच लीजिये
या हो सकता है कि आपका स्टिरीओ।
अरे, अपने जूते तो देखिए। यह है जापान।

भले ही आप कभी जापान न गए हों
इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप कहां रहते हैं,
जापान आपके जीवन में समा गया है।

ये भद्र लोग, इतने विनम्र,
सीधे-सादे और कद और करनी में सुकुमार।
कैसे इन्होंने सभी के जीवन में दखल कर लिया।

इनका निर्लिप्त मौन किसी कमजोर का नहीं है,
उनकी विनम्रता निश्चित ही उनकी दुर्बलता नहीं है।
दृढ़, मजबूत और गौरवशाली।
वे अपनी मौन शक्ति में खड़े हैं।

[/translate]

அன்பும் அருளும்,

Sadhguru
[/twocol_one_last]



இதையும் வாசியுங்கள்

Type in below box in English and press Convert