ऐसे बोलें मानो ये आखिरी शब्द हों

सद्‌गुरु-वाक शुद्धि

पिछले सप्ताह, सद्‌गुरु ने मानव तंत्र पर ध्वनि के प्रभाव और वाक शुद्धि से हमारे शरीर को होने वाले फायदों की चर्चा की। इस सप्ताह सद्‌गुरु बता रहे हैं कि हम किस तरह अपने भीतर वाक शुद्धि को कायम रख सकते हैं।

 सद्‌गुरु:

उच्च संभावनाओं के लिए ध्वनियाँ महत्वपूर्ण हैं

यदि आप जो भी बोलते हैं, उसके एक-एक शब्द में सही उद्देश्य लाएं, तो ये शब्द या ध्वनियां आपके भीतर एक खास रूप में गूंजेंगी। इसलिए यदि आप किसी से बात कर रहे हैं, तो आप इस तरह बोलें मानो ये शब्द उस व्यक्ति के लिए आपके आखिरी शब्द हों, यदि आप हर किसी के साथ ऐसा करें, तो यह आपकी वाक शुद्धि करने का बहुत बढ़िया तरीका है।
यदि आप इस मानव शरीर को एक अधिक ऊंची संभावना के रूप में इस्तेमाल करना चाहते हैं, तो सही किस्म की ध्वनियों या गूंजों की एक नींव जरूरी है। वरना आपका सिस्टम हमेशा आपके पीछे घिसटता ही रहेगा। अगर आप उसे एक अधिक बड़ी संभावना बनाना चाहते हैं, तो जरूरी है कि बुनियाद सही तरीके की ध्वनियों की हो और इसके लिए वाक शुद्धि एक महत्वपूर्ण अंग है। वाक शुद्धि का मतलब आप जिन शब्दों का उच्चारण करते हैं, उन्हें शुद्ध बनाना।

यदि आप सिर्फ अपने भीतर मौन हो जाएं, तो इससे बेहतर कोई तरीका नहीं है। यह सबसे बढ़िया तरीका है। परंतु यदि ऐसा नहीं हो पा रहा है, तो अगली बेहतरीन चीज है, ‘शिव’ का उच्चारण। यह शब्द निश्चलता या खामोशी के सबसे करीब है। यदि सिर्फ एक शब्द आपके लिए पर्याप्त नहीं है, तो आप थोड़ी और व्यापक चीज अपना सकते हैं – आप ‘ब्रह्मानंद स्वरूप’ या यहां मौजूद आध्यात्मिक मंत्रों में से अपनी पसंद के किसी भी मंत्र का जाप कर सकते हैं। जिस मंत्र के साथ आप सहज हों, उसका जाप करें।

ध्वनि बोलने के पीछे उद्देश्य

ध्वनि एक चीज है, लेकिन एक और चीज है, ध्वनि के पीछे का उद्देश्य। बोलने की क्षमता मनुष्य को मिला एक विशेष उपहार है। बोले जाने वाले शब्दों की जटिलता के हिसाब से कोई और जीव इंसान की बराबरी नहीं कर सकता। लेकिन एक इंसान द्वारा बोले जाने वाले शब्दों की रेंज जितनी कम होगी, उसकी वाक शुद्धि उतनी ही कम होगी। भारतीय भाषाओं की तुलना में, अंग्रेजी में शब्दों या ध्वनियों की रेंज कम है। इसी वजह से अगर आप अपने जन्म से केवल अंग्रेजी ही बोलते रहे हैं, तो आपके लिए कोई मंत्र या दूसरी भाषा बोलना बहुत मुश्किल होगा।

यदि ध्वनियों या शब्दों की संरचना वैज्ञानिक तरीके से की जाती, जैसा कि मंत्रों और संस्कृत भाषा में होता है, तो चाहे आप बिना अधिक जागरूकता के कुछ बोलें, फिर भी ध्वनियों की खास व्यवस्था के कारण आपको लाभ होता। संस्कृत भाषा को काफी सोच-समझ कर तैयार किया गया था ताकि सिर्फ उस भाषा को बोलना ही शरीर का शुद्धिकरण कर दे। लेकिन अब हम अधिकांश समय उन भाषाओं को बोलते हैं, जिन्हें इस तरह तैयार नहीं किया गया है। इसलिए सबसे अच्छा है कि आप अपने इरादे को अच्छा करके इसे संभालिए। आपको इसे मजबूत इरादे और दृढ़ संकल्प से ठीक करना होगा क्योंकि कार्मिक प्रक्रिया का अधिकांश भाग कर्म के संकल्प से सबंधित है, कर्मो से नहीं। आप कोई बात बेहद प्रेम के कारण या किसी दूसरे उद्देश्य से कह सकते हैं। दोनों का शरीर पर एक जैसा असर नहीं होगा।

यदि आप जो भी बोलते हैं, उसके एक-एक शब्द में सही उद्देश्य लाएं, तो ये शब्द या ध्वनियां आपके भीतर एक खास रूप में गूंजेंगी। इसलिए यदि आप किसी से बात कर रहे हैं, तो आप इस तरह बोलें मानो ये शब्द उस व्यक्ति के लिए आपके आखिरी शब्द हों, यदि आप हर किसी के साथ ऐसा करें, तो यह आपकी वाक शुद्धि करने का बहुत बढ़िया तरीका है।


संबन्धित पोस्ट


Type in below box in English and press Convert