gallery

नरक चतुर्दशी : बुराइयों को मिटाने का उत्सव

नरक चतुर्दशी : बुराइयों को मिटाने का उत्सव

कृष्ण ने नरकासुर नाम के अत्यंत क्रूर राजा को दिवाली से पहले आने वाली चतुर्दशी के दिन मारा था। यह नरकासुर की ही इच्छा थी की यह चतुर्दशी का उत्सव मनाया जाए। ...
और पढ़ें
वाराणसी : भगवान शिव के त्रिशूल पर टिका शहर

वाराणसी : भगवान शिव के त्रिशूल पर टिका शहर

वाराणसी - जिसे बनारस और काशी भी कहते हैं, भारत का सबसे पुराना और आध्यात्मिक शहर है। किसने रचा इस शहर को? क्या शिव खुद यहां रहते थे? क्या है इसका इतिहास? ...
और पढ़ें
ईशा लहर अक्टूबर 2016 : देवी देवताओं को बनाने का विज्ञान

ईशा लहर अक्टूबर 2016 : देवी देवताओं को बनाने का विज्ञान

नवरात्रि के अवसर पर ईशा लहर के अक्टूबर अंक में आप पढ़ सकते हैं स्त्री शक्ति और देवी पूजा से जुड़े अनेक पहलूओं के... ...
और पढ़ें
ईशा लहर सितम्बर 2016 : नेतृत्व कोई काम नहीं, एक गुण है

ईशा लहर सितम्बर 2016 : नेतृत्व कोई काम नहीं, एक गुण है

भरतीय संस्कृति में महान नेताओं को हमेशा आदर भाव से देखा गया है। युगों से ऐसे नेताओं ने रूपांतरण का कार्य किया है। लेकिन... ...
और पढ़ें
ईशा लहर अगस्त 2016 : आध्यात्मिक गुरु का कारोबार

ईशा लहर अगस्त 2016 : आध्यात्मिक गुरु का कारोबार

आध्यात्मिक गुरुओं की व्यवसाय और कारोबारों में भूमिका को लेकर कुछ प्रश्न खड़े किया जाते रहे हैं। क्या गुरुओं का अपना कारोबार खड़ा करना... ...
और पढ़ें
गुरु पूर्णिमा 2015 - आप भी लाभ उठाएं

गुरु पूर्णिमा 2016 – आप भी लाभ उठाएं

गुरु पूर्णिमा वो दिन है, जब आदि योगी ने आदि गुरु में रूपांतरित होकर विश्‍व को आध्यात्मिक प्रक्रिया भेंट की। इस दिन पहली बार मनुष्यों को यह याद दिलाया गया कि अगर वे मेहनत करने के लिए तैयार हैं, तो अस्तित्व का हर दरवाज़ा खु ...
और पढ़ें
download

गुरु : एक रोडमैप है – ईशा लहर जुलाई 2016

ईशा लहर का जुलाई माह का अंक गुरु पर केन्द्रित है। क्या आध्यात्मिक प्रगति के लिए गुरु जरुरी है? आध्यात्मिक विकास में गुरु की... ...
और पढ़ें

अफ्रीका से अमेरिका का सफर

अपने अफ्रीका और अमेरिका यात्रा का वर्णन करते हुए इस हफ्ते के स्पाॅट में सद्‌गुरु अफ्रीकी महाद्वीप के अनोखेपन और वहां मौजूद भारतीयों के... ...
और पढ़ें
sadhguru-at-un4

विश्‍व केे विकास में योग की भूमिका

दूसरे योग दिवस के अवसर पर सद्‌गुरु ने संयुक्त राष्ट्र को संबोधित किया था। उस चर्चा का विषय था स्थायी विकास लक्ष्यों को पाने... ...
और पढ़ें
DL_1

ध्यानलिंग – जहां हर इंसान कर सकता है ध्‍यान

आज 17वें ध्यानलिंग स्थापना दिवस के दिन, आइये पढ़ें कुछ सूत्र ध्यानलिंग के बारे में… ध्यानलिंग – चैतन्य की परम अभिव्यक्ति। ध्यानलिंग की मूल... ...
और पढ़ें