सत्य

क्या बड़ों की आज्ञा का पालन जरुरी है?

क्या बड़ों की आज्ञा का पालन जरुरी है?

हम बचपन से सुनते और मानते आ रहे हैं कि अपने बड़ों की आज्ञाओं का पालन करना चाहिए। तो फिर नई सोच, नई खोज, नई परंपरा कैसे पनपेगी? तो आखिर क्या करना चाहिए? ...
और पढ़ें
जब टैगोर को हुआ सत्य का बोध

जब टैगोर को हुआ सत्य का बोध

टैगोर की कविताओं में हमें अस्तित्व के असीम सौन्दर्य और भक्ति के दर्शन होते हैं...क्या इसी असीम का अनुभव उन्होंने अपने भीतर भी किया था? ...
और पढ़ें
bandw-Copy

आपकी राय आपको ले जाती है सच्‍चाई से दूर

हम अक्सर किसी व्यक्ति और वस्तु के बारे में कोई-न-कोई राय बना लेते हैं। क्या राय बनाना समझदारी है या फिर ये सिर्फ हमारी पसंद नापसंद को दिखाता है? ...
और पढ़ें
रविंद्रनाथ टैगोर

जब टैगोर को हुआ सत्य का बोध

गुरुदेव रविंद्रनाथ टैगोर को विश्व के महानतम कवियों में से एक माना जाता है। उनकी अधिकतर कवितायेँ दिव्यता, कुदरत और सौन्दर्य के बारे में हैं। लेकिन क्या यह सारी कवितायेँ उन्होंने अपने निजी अनुभव से लिखी थीं? ...
और पढ़ें