क्या करूं क्या ना करूं

confusion

 

प्रश्न
सद्‌गुरु, अधिकतर समय मुझे यह समझ नहीं आता कि मुझे क्या करना चाहिए। मैं विचार, भावना और काम को लेकर असमंजस में रहता हूँ। कोई ठीक-ठीक यह कैसे जानेगा कि किसी खास वक्त पर क्या करना चाहिए ?

उत्तर
सद्‌गुरु: अगर आप यहाँ विचारों, भावनाओं और निष्कर्षों के ढे़र के रूप में बैठते हैं, आप कभी नहीं जान पाओगे कि क्या जरूरी है। अधिकांश लोग ऐसे ही हैं। जिस प्राणी को आप इंसान कहते हैं, वाकई में वह प्राणी नहीं है; वह मात्र विचारों, भावनाओं और निष्कर्षों का एक ढे़र है, जिसे उसने कहीं से इकट्ठा कर लिया है। अगर आप एक ऐसी स्थिति में हैं, फिर आप कभी नहीं जान पाओगे। अगर आप यहाँ सहज एक जीवन के रूप में बैठते हैं, फिर आप हमेशा जानेंगे। आप हमेशा यह जानेंगे कि क्या जरूरी है। आपको इसके बारे में सोचने की जरूरत नहीं है। जानने के लिए आपको खुद को शिक्षित नहीं करना है।
अगर आप यहाँ विचारों, भावनाओं और निष्कर्षों के बंडल के रूप में बैठते हैं, फिर आपकी पूरी समझ बिगड़ जाएगी और आप कभी भी नहीं जान पाएंगे। आप हमेशा जीवन के बारे में गलत निष्कर्ष निकालेंगे।

कोई भी इंसान, जो यहाँ जीवन के रूप में बैठ पाता है, वह सहज ही जानेगा कि उसके आसपास के दूसरे लागों की क्या जरूरतें हैं; लेकिन अगर वह यहाँ विचारों, भावनाओं और निष्कर्षों के बंडल के रूप में बैठता है, फिर उसकी पूरी समझ बिगड़ जाएगी और वह कभी भी नहीं जान पाएगा। वह हमेशा जीवन के बारे में गलत निष्कर्ष निकालेगा। जब आप यह नहीं जानते कि जीवन के साथ क्या हो रहा है, फिर आप अपने जीवन को केवल विचारों, भावनाओं और निष्कर्षों के द्वारा ही चलाते हैं। यह आपको अपने भीतर एक पूरे विनाश की तरफ ले जाएगा, और अगर आप एक शक्तिशाली आदमी हैं, तो आप पूरे संसार को ले डूबेंगे। आज-कल यह हो रहा है। लोग बहुत ज्यादा निष्कर्षों पर आधारित हो गए हैं, है कि नहीं ? इसलिए मैं कहता हूं कि भविष्य और भूत में नहीं अभी और यहीं जियो। और यह तभी संभव होगा जब आप जीवन को पल पल जागरूकता में जीने लगें।


संबन्धित पोस्ट


Type in below box in English and press Convert



  • Radha Janardhan

    Mai patrika keliye likhna chahti hoon. Is vaqt Seattle mein hoon uske baad Trivendrum. Sadguru se prabhavit hoon par Isha yog seekhneka mouka nahin mila. Krupaya jawab dein

    s

    • IshaBlogHindi

      Namaskaram Radha,
      We are glad to see your willingness to contribute to Isha Lahar Patrika. Please send your profile and area of interest to editor@ishalahar.com. We will get back to you soon.
      Pranam

  • http://twitter.com/apurvpramod apurvrao

    Namaskaram….i want to share my experience in the forest flower….monthly magzine….what i have to do for that….??
    Pranams.