कृष्ण

भगवान कृष्ण की हिंदी कहानी श्रृंखला

इस श्रृंखला में आप पढ़ सकते हैं – पूतना के संहार की कहानी, कृष्ण की मां यशोदा, राधे, रुक्मिणी, सत्यभामा, शैब्या, त्रिवक्रा के साथ लीलाएं।

ये श्रृंखला कृष्ण जन्म से शुरू होती है, जहां मामा कंस के अत्याचारों का वर्णन है। इसके आगे श्रृंखला में अनेक राक्षसों के हमले और बाल कृष्ण की लीलाओं की कहानी है। फिर श्रृंखला कुछ आगे बढ़ती है, और कृष्ण और राधे की पहली मुलाकात तब होती है, जब भगवान 7 वर्ष के और राधे 12 वर्ष की हैं। फिर कृष्ण पारंपरिक इन्द्रोत्सव के खिलाफ हो जाते हैं, और गोपोत्सव मनाने की नई परंपरा शुरू करने की बात करते हैं। अचानक भारी बरसात होने लगती है, और फिर एक चमत्कार होता है, गोवर्धन पर्वत जमीन से ऊपर उठ जता है। यही वो घटना है जिसके बाद भगवान को गोविन्द के नाम से जाना जाने लगा था।

कृष्ण की कहानियां - लीला - उमंग और उत्साह का मार्ग

कृष्ण की कहानियां – लीला – उमंग और उत्साह का मार्ग

कृष्ण इतने बहुआयामी हैं, कि उनके आस-पास रहने वाले लोगों ने उन्हें बिलकुल अलग-अलग रूप में देखा था। आइये जानते हैं कि दुर्योधन, शकुनी... ...
और पढ़ें
कृष्ण की क्रीडाएं और लीला : क्यों महत्वपूर्ण हैं?

कृष्ण की क्रीड़ाएँ और लीला : क्यों महत्वपूर्ण हैं?

कृष्ण की रसिकता और क्रीड़ापूर्ण व्यवहार कई बार लोगों के मन में कई प्रश्न पैदा कर देता है। क्या क्रीड़ापूर्ण होना आध्यात्मिकता से दूर ले जाता है? जीवन के लिए क्या उचित है? ...
और पढ़ें
कृष्ण की रास लीला – क्या सिखाती है हमें ?

कृष्ण की रास लीला – क्या सिखाती है हमें?

भगवान कृष्ण ने अपने जीवन के 16 वर्ष तक रास लीला की। क्या रास लीला हमारे जीवन का भी एक हिस्सा बन सकतीं हैं? या फिर क्या ये हमारे पूरे जीवन को प्रभावित कर सकतीं हैं? कैसे बनाएं हम अपने जीवन को रसमय? ...
और पढ़ें
क्यों झेलने पड़े शिव और कृष्ण को कष्ट?

क्यों झेलने पड़े शिव और कृष्ण को कष्ट?

अवतार पुरुष जैसे शिव और कृष्ण भी कष्टों से गुजरते हैं। लेकिन कष्ट हमारे प्रारब्ध की वजह से आते हैं तो फिर इन्हें कष्ट क्यों झेलने पड़े? क्या वे मुक्त नहीं? ...
और पढ़ें
भगवान कृष्ण के भक्तों को क्यों झेलने पड़े कष्ट?

भगवान कृष्ण के भक्तों को क्यों झेलने पड़े कष्ट?

आध्यात्मिक पथ पर चलने वालों को बहुत ज्यादा मुश्किलों का सामना क्यों करना पड़ता है? आइये जानें कि कैसे ये हमारे प्रारब्ध कर्मों से जुड़ा है... ...
और पढ़ें
भगवत गीता : भक्ति योग का महत्व

भगवत गीता : निराकार और साकार की भक्ति में क्या अंतर है?

क्या फर्क है भक्ति साधना और निराकार ईश्वर की उपासना में? आइये जानते हैं भगवान श्री कृष्ण ने क्या समझाया अर्जुन को गीता के बारहवें अध्याय भक्ति योग में.. ...
और पढ़ें
भविष्यवाणी : क्या आपका जीवन बदल सकती है?

भविष्यवाणी : क्या आपका जीवन बदल सकती है?

भविष्यवाणी सुनने में हम कई बार रूचि दिखाते हैं। क्या भविष्यवाणी जानने का कोई फायदा है? क्या आपके जीवन में भविष्य के बारे मने जानकार बदलाव आ सकते हैं? ...
और पढ़ें
महाभारत : गांधारी ने क्यों नहीं रोका धृतराष्ट्र को?

महाभारत : गांधारी ने क्यों नहीं रोका धृतराष्ट्र को?

कई बार हमें अपने आस-पास कई चीजें गलत होती हुई दिखती हैं, लेकिन हम किसी परेशानी की डर से उसे स्वीकार कर लेते हैं, या अपनी मौन सहमति दे देते हैं। क्या यह सही है? क्या हर बार बदलाव के लिए आवाज उठाना जरूरी है? ...
और पढ़ें
मृत्यु का पल और अगला जन्म - कैसे जुड़े हैं?

मृत्यु का पल और अगला जन्म – कैसे जुड़े हैं?

मृत्यु के समय एक शांतिपूर्ण माहौल तैयार करने की परंपरा है। क्या मृत्यु के पल का मरने वाले व्यक्ति के ऊपर प्रभाव पढता है? क्या यह उसके अगले जन्म से जुड़ा है? ...
और पढ़ें
महाभारत : कृष्ण ने अर्जुन को आखिर युद्ध में क्यों धकेला?

महाभारत : कृष्ण ने अर्जुन को आखिर युद्ध में क्यों धकेला?

गीता में कृष्ण ने अर्जुन को युद्ध के लिए प्रेरित किया जिसको लेकर अकसर लोगों के मन में सवाल उठते हैं कि क्या कृष्ण युद्ध चाहते थे? क्या युद्ध उचित है? ...
और पढ़ें