दशहरा या विजयदशमी : किस विजय का प्रतीक है?

दशहरा और विजयादशमी नवरात्री के नौ दिनों के बाद आता है। इस दशमी को विजय दशमी क्यों कहते हैं? किस विजय का प्रतीक है ये?

नवरात्रि और दशहरा ऐसे सांस्कृतिक उत्सव हैं जो सभी के लिए महत्वपूर्ण और अहम हैं। ये उत्सव चैतन्‍य के देवी स्वरुप को पूरी तरह से समर्पित है। कर्नाटक में दशहरा चामुंडी से जुड़ा है, और बंगाल में दुर्गा से। इस तरह से अलग-अलग जगहों पर यह अलग-अलग देवियों से जुड़ा है, पर मुख्य रूप से स्त्रीत्व या देवी के बारे में ही है।

दशहरा – उत्सव का दसवां दिन

नवरात्रि, बुराई और ऊधमी प्रकृति पर विजय पाने के प्रतीकों से भरपूर है। इस त्यौहार के दिन, जीवन के सभी पहलुओं के प्रति, जीवन में इस्तेमाल की जाने वाली वस्तूओं के प्रति अहोभाव प्रकट किया जाता है। नवरात्रि के नौ दिन, तमस रजस और सत्व के गुणों से जुड़े हैं। पहले तीन दिन तमस के होते हैं, जहां देवी रौद्र रूप में होती हैं – जैसे दुर्गा या काली। उसके बाद के तीन दिन लक्ष्मी को समर्पित हैं – ये देवी सौम्य हैं, पर भौतिक जगत से सम्बंधित हैं। आखिरी तीन दिन सरस्वती देवी यानि सत्व से जुड़े हैं, ये ज्ञान और बोध से सम्बंधित हैं।

दशहरा –  जीत का दिन

इन तीनों में अपना जीवन समर्पित करने से आपके जीवन को एक नया रूप मिलता है। अगर आप तमस में अपना जीवन लगाते हैं तो आपके जीवन को एक तरह की शक्ति आएगी। अगर आप रजस में अपना जीवन लगाएंगे, तो आप किसी अन्य तरीके से शक्तिशाली होंगे। और अगर आप सत्व में अपना जीवन लगाएंगे, तो एक बिलकुल अलग तरीके से शक्तिशाली बन जाएंगे। लेकिन अगर आप इन सबसे परे चले जाएं तो फिर ये शक्तिशाली बनने की बात नहीं होगी, फिर आप मुक्ति की ओर चले जाएंगे। नवरात्रि के बाद दसवां और अंतिम दिन विजयादशमी या दशहरा का होता है –  इसका मतलब है कि आपने इन तीनों पर विजय पा ली है। आपने इन में से किसी के भी आगे घुटने नहीं टेके, आपने हर गुण के आर-पार देखा। आपने हर गुण में भागीदारी निभाई, पर आपने अपना जीवन किसी गुण को समर्पित नहीं किया। आपने सभी गुणों को जीत लिया। ये ही विजयदशमी है – विजय का दिन। इसका संदेश यह है – कि जीवन की हर महत्वपूर्ण वस्तु के प्रति अहोभाव और कृतज्ञता का भाव रखने से कामयाबी और विजय प्राप्त होती है।

दशहरा – भक्ति और अहोभाव

हम अपने जीवन को सफल बनाने के लिए बहुत से उपकरणों को काम में लाते हैं। जिन उपकरणों से हम अपना जीवन रचते हैं, उनमें सबसे महत्वपूर्ण हमारा अपना शरीर और मन है। जिस धरती पर हम चल्रते हैं, जिस हवा में सांस लेते हैं, जो पानी हम पीते हैं और जो खाना खाते हैं – इन सभी वस्तूओं के प्रति अहोभाव रखने से हमारे जीवन में एक नई संभावना पैदा हो सकती है। इन सभी पहलुओं के प्रति अहोभाव और भक्ति रखने से हमें अपने सभी प्रयत्नों में सफलता मिलेगी।

दशहरा प्रेम और उल्लास के साथ मनाएं

इस तरह से नवरात्रि के नौ दिनों के प्रति या जीवन के हर पहलू के प्रति एक उत्सव और उमंग का नजरिया रखना और उसे उत्सव की तरह मनाना सबसे महत्वपूर्ण है। अगर आप जीवन में हर चीज को एक उत्सव के रूप में लेंगे तो आप बिना गंभीर हुए जीवन में पूरी तरह शामिल होना सीख जाएंगे। दरअसल ज्यादातर लोगों के साथ दिक्क्त यह है कि जिस चीज को वो बहुत महत्वपूर्ण समझते हैं उसे लेकर हद से ज्यादा गंभीर हो जाते हैं। अगर उन्हें लगे कि वह चीज महत्वपूर्ण नहीं है तो फिर उसके प्रति बिल्कुल लापरवाह हो जाएंगे- उसमें जरूरी भागीदारी भी नहीं दिखाएंगे। जीवन का रहस्य यही है कि हर चीज को बिना गंभीरता के देखा जाए, लेकिन उसमें पूरी तरह से भाग लिया जाए- बिल्कुल एक खेल की तरह।

भारतीय परंपरा में दशहरा हमेशा उल्लास से भरपूर त्यौहार रहा है, जहां समाज के सभी लोग एक साथ मिलकर नाचते और घुल मिल जाते हैं। लेकिन पिछले दो सौ सालों के बाहरी आक्रमणों और बाहरी प्रभावों की वजह से, ये परंपरा अब खो गयी है। वरना दशहरा हमेशा से ही उल्लास से भरा रहा है। बहुत सी जगहों में ये अब भी उल्लास से भरपूर है, पर अन्य जगहों पर यह परंपरा खो रही है। हमें इसे फिर से स्थापित करना होगा। विजयदशमी या दशहरा इस देश में सभी के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है – चाहे वो किसी भी जाति, वर्ग या धर्म का हो – और इसे उल्लास  और प्रेम के साथ मनाया जाना चाहिए। ये मेरी इच्छा और आशीर्वाद है कि आप दशहरा पूरी भागीदारी, आनंद और प्रेम के साथ मनाएं।

 


संबन्धित पोस्ट


Type in below box in English and press Convert



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *